HomeCS Subjectsप्रोग्रामिंग के बेसिक तत्व क्या है | Basic Elements of Programming...

प्रोग्रामिंग के बेसिक तत्व क्या है | Basic Elements of Programming in Hindi

हेल्लो पाठकों !

अगर आप प्रोग्रामिंग अच्छे से सीखना चाहते हैं, तो सबसे पहले आपको प्रोग्रामिंग के बेसिक तत्वों क्या है (What is basic elements of Programming in Hindi) इसके बारे में पूरी जानकारी प्राप्त करना चाहिए ।

हम इंसान एक दूसरे से बात करने के लिए कई लोकप्रिय और प्रसिद्ध भाशाओं जैसे हिन्दी, बंगाली, अंग्रेजी, जर्मन का उपयोग करते हैं, जो सही ढ़ग से बोलने या लिखने के लिए कई तत्वों जैसे अक्षर, शब्दावली और व्याकरण के नियमों का अपना सेट से बनी होती है, जिनको इंसान द्वारा पालन करना पढ़ता हैं ।

मानव भाषाओं की तरह, प्रोग्रामिंग भाषांए भी विभिन्न तत्वों से बनी होती है और व्याकरण का अनुसरण करती हैं जिसे सिंटैक्स कहा जाता है ।

तो चलिए प्रोग्रामिंग के बेसिक तत्वों को विस्तार से जानते है ।

प्रोग्रामिंग के बेसिक तत्व क्या है (Basic Elements of Programming in Hindi) ?

प्रोग्रामिंग में कुछ बुनियादी तत्व होते हैं जो सभी प्रोग्रामिंग भाषाओं के लिए समान होते हैं । प्रोग्रामिंग के बेसिक तत्व या Elements निम्न प्रकार है :-

  • Character Sets
  • Keywords
  • Operators
  • Data Types
  • Variables
  • Decision Making Statements
  • Loops
  • Arrays
  • Functions
  • Classes & Objects  

Character Sets

किसी भी नैचरल भाषा जैसे हिन्दी, बंगाली, अंग्रेजी जो मनुष्य द्वारा बोले या लिखे जाते है उसके लिए सबसे पहले हमें उस भाषा के अक्षर सेट के बारे में जानने की आवश्यकता होती है । नैचरल भाषा में सबसे लोकप्रिय भाषा आज अंग्रेजी है, जिसका अक्षर जैसे (a, b, c, d, e, f……z) होता है, जिने उपयोग करते हैं ।

ठीक इसी तरह, प्रोग्रामिंग भाषाओं में कुछ वर्ण सेट होते हैं, जिनका उपयोग कंप्यूटर प्रोग्राम लिखने के लिए किया जाता है ।

उदाहरण के लिए, यदि आप सी प्रोग्रामिंग भाषा सीखना चाहते हैं तो, वहां 98 अक्षर सेट होते है ।

Keywords

कीवर्ड प्रोग्रामिंग भाषाओं में उपयोग किए जाने वाले शब्दों और आरक्षित शब्दों के समूह हैं जिनका कंपाइलर के लिए विशेष अर्थ है । जिनका अर्थ और कार्य उस प्रोग्रामिंग भाषा में पूरी स्थिर रहता है । हम प्रोग्रामिंक के दौरान इन आरक्षित कीवर्ड को variable नाम के रूप में उपयोग नहीं कर सकते हैं ।

विभिन्न प्रोग्रामिंग भाषाओं में उस विशेष प्रोग्रामिंग भाषा के लिए आरक्षित कीवर्ड की अलग अलग सूची होती है । जिनमें से कुछ लोकप्रिय प्रोग्रामिंग भाषाओं के कीवर्ड नीचे सूचीबद्ध किया हॅु :-

Operators

कंप्यूटर प्रोग्रामिंग में ऑपरेटर एक सिम्बल है जो आमतौर पर एक क्रिया या प्रक्रिया का प्रतिनिधित्व करता है । इन सिम्बलों को गणित और लॉजिक से अनुकूलित किया गया है ।

ऑपरेटर कम्पाइलर या इन्टरप्रेटर को विशिष्ट गणितीय, संबंधपरक या लॉजिक ऑपरेशन करने और अंतिम परिणाम देने के लिए कहता है ।

Data Types

डेटा टाइप डेटा का एक वर्गीकरण है जो कम्पाइलर या इन्टरप्रेटर को बताता है कि प्रोग्रामर डेटा का उपयोग कैसे करना चाहता है । अधिकांश प्रोग्रामिंग भाषाएं विभिन्न प्रकार के डेटा का समर्थन करती हैं, जिसमें integer, real, character, string और boolean है ।

Variables

वेरिएबल वे नाम हैं जो आप कंप्यूटर मेमोरी स्थानों को देते हैं जिनका उपयोग कंप्यूटर प्रोग्राम में मूल्यों को संग्रहीत करने के लिए किया जाता है ।

प्रोग्रामिंग में वेरिएबल बनाने को वेरिएबल घोषित करना भी कहा जाता है । अलग अलग प्रोग्रामिंग भाषाओं में प्रोग्राम के अन्दर वेरिएबल बनाने के अलग अलग तरीके होते है ।

Decision Making Statements

निर्णय लेने के बयान आपको अपने कर्यक्रम में विशिष्ट बयानों के निष्पादन का क्रम तय करने की अनुमति देते हैं । यदि आप शर्त पूरी करते हैं तो आप एक शर्त स्थापित कर सकते हैं और संकलक को एक विषेश कार्रवाई करने के लिए कह सकते हैं ।

Loops

कंप्यूटर प्रोग्रामिंग में, लूप निर्देशों का एक क्रम है जो एक निश्चित स्थिति तक पहुंचने तक लगातार दोहराया जाता है ।

Arrays

ऐरे सन्निहित मेमोरी स्थानों पर संग्रहीत वस्तुओं का एक संग्रह है । विचार एक ही प्रकार की कई वस्तुं को एक साथ संग्रहीत करना है ।

Functions

फंक्शन संगठित, पुनः प्रयोज्य कोड को एक ब्लॉक है जिसका उपयोग सिंगल, संबंधित क्रिया करने के लिए किया जाता है । प्रत्येक सी प्रोग्राम को कार्यों के संग्रह के रूप में माना जा सकता है । फंक्शन अभिव्यक्तियों का संग्रह है जिसे बार बार संख्या से बुलाया जा सकता है ।

Classes & Objects

वस्तु (Objects) कुछ वास्तविक दुनिया की चीज का एक कार्यक्रम प्रतिनिधित्व है । वस्तु उन्मुख मॉडलिंग वास्तविक दुनिया की अवधारणाओं के आसपास व्यवस्थित मॉडल का उपयोग करके समस्याओं की कल्पना करने का एक नया तरीका है ।

ऑब्जेक्ट ओरिएंटेड प्रोग्रामिंग कंस्टक्शन डेटा टाइप्स से बने होते हैं जिन्हें क्लासेस (Classes) कहा जाता है । एक क्लास डेटा टाइप के वेरिएबल को परिभाषित करना एक क्लास तात्कालिकता के रूप में जाना जाता है और ऐसे वेरिएबल को ऑब्जेक्ट कहा जाता है ।

समान डेटा संरचना और व्यवहार वाली वस्तुओं को एक साथ क्लास के रूप में समूहीकृत किया जाता है ।

निर्ष्कष – Conclusion

मुझे आाशा है, इस पोस्ट से आपने प्रोग्रामिंग के बेसिक तत्वों किया किया होते है इसके बारे में हिन्दी में अच्छे से जानकारी मिल गया है ।

अगर फिर भी प्रोग्रामिंग के Basic Elements को लेकर आपके मन में कोई भी सवाल है तो कमेंट करके हमें जरूर सूचित करें ।

FAQ‘s

Q1 :

Ans:

अन्य पोस्ट पढ़े :-

अगर आपको यह पोस्ट अच्छा लगा तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करे ताकी उन्हें भी इस बारे में जानकारी प्राप्त हो सके ।

Satyajit Nath
Satyajit Nathhttps://tazahindi.com
इस पोस्ट के लेखक सत्यजीत है, वह इस वेबसाइट का Founder भी हैं । उन्होंने Information Technology में स्नातक और Computer Application में मास्टर डिग्री प्राप्त की हैं ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here