HomeHardwareकंप्यूटर कैसे बनाते है |How to build Computer in Hindi

कंप्यूटर कैसे बनाते है |How to build Computer in Hindi

हेल्लो पाठकों !

क्या आप जानना चाहते है, कैसे आप खुद से एक कंप्यूटर बना सकते है (How to build Computer), नया कंप्यूटर बनाने के लिए आपको क्या सीखने की जरूरत है, कंप्यूटर बनाने की step by step गाइड क्या है, या आप यह जानना चाहते है, कंप्यूटर के पुरजे सिस्टम में कहा और कैसे जोड़ कर एक बेहतरीन कंप्यूटर बनाया जा सकता है ।

अगर आप इन सब सवालों के जवाब जानना चाहते है या खुद से एक बेहतरीन कंप्यूटर बनाना चाहते हैं, तो आपको इस लेख में स्वागत है।

एक कंप्यूटर को बनाने से पहले, आपको कंप्यूटर के सभी पुरजों का सही से चयन करना आना चाहिए और साथ ही उन पुरजों को सही तरीके से कंप्यूटर सिस्टम में कैसे स्थापित या जोड़ते है, इसकी ज्ञान होना अति आवश्यक है ।

यदि आपने इससे पहले कभी भी कई कंप्यूटर नहीं बनाया और इसमें नए है तो यह चरण दर चरण मार्गदर्शिका आपको अपना खुदका एक मन पसंद नया कंप्यूटर बनाने में आपको मदद करेगा ।

जब बजट के अन्दर अच्छे कंप्यूटर खरीदने की बात आती है, तो आप व्यक्तिगत रूप से अपने जरूरत के हिसाब से कंप्यूटर के एक एक पूरजो को खरीद सकते है और आपके लिए एक कंप्यूटर को असेम्बलिंग करके बना सकते है, जो आपको कम पैसे में बना बना कंप्यूटर के तुलना में बेहतर स्पीड और परफॉर्मेंस देगा ।

कंप्यूटर बनाने की प्रक्रिया शुरू करने से पहले आपको खुद से कुछ सवाल करनी चाहिए :-

  • आप कंप्यूटर क्यों बनाना चाहते हैं ?
  • इस कंप्यूटर से आप क्या चाहते हैं, जो पहले से बना हुया कंप्यूटर (Pre-built Computer) से आप नहीं कर पा रहे हैं ?
  • कंप्यूटर के कौन से ऐसे हिस्से या पुरजा है जो आपका उस लक्ष्य को प्राप्त करा सकता है ?

अगर आपने इन सब सवालों का जबाव प्राप्त कर लिया तो चलिए आपको विस्तार से समझाता है कि आप कैसे एक कंप्यूटर को बना सकते है, इसे बनाने के लिए आपको किन किन चिजो का जानना या ज्ञान होना जरूरत है, जिससे आप आपके लिए मन पसंद कंप्यूटर बना सको और साथ में पैसो का भी बचत हो सके ।

चलिए शुरू करते है ।

कंप्यूटर को assemble करने की क्यों जरूरत पड़ती है – Need for assembling a Computer ?

अगर आप टेकनोलजी में रूची रखते है, तो खुद के लिए एक अच्छा कंप्यूटर बनाना या assemble करना यकीनन आपके लिए सबसे अच्छा तकनीकी निवेश होगा ।

चाहे आप डेटा टाइप कर रहे हों, वीडियों संपादित कर रहे हों या नई और महानतम खेलों की सेंग में सुधार कर रहे हों, आपके पास एक तीव्र गति वला अच्छा कंप्यूटर होना सबसे अच्छा उपकरण होगा । आमतौर पर कंप्यूटर को assemble करने की जरूरत निचे दिये गये कारणों से पड़ता है :-

  • आपकी व्यक्तिगत आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए पूरी तरह से अनुकूलित होगा ।
  • समान विशिष्टताओं वाले पूर्व निर्मित कंप्यूटरों की तुलना में कम पैसे में बन जाता है ।
  • भविष्य में किसी भी हस्सों या पुरजों को अपग्रेड कर सकते है
  • इससे आप आपके लिए एक नया कौशल सीख पायेंगे ।

कंप्यूटर बनाने या असेम्बलिंग के लिए कुछ जरूरी टूल्स –Tools required for built a Computer ?

कंप्यूटर बनाने के लिए आपको कुछ छोटे मोटे उपकरणों की आवश्यक होगी, जिनका बिवरण निम्न प्रकार है :-

  • Screw drivers
  • Scissors
  • Flash light
  • Cable Ties
  • Anti static wrist strap

कंप्यूटर बनाने के समय ध्यान रखने वाले सुरक्षा निर्देशों – Safety instructions

जब भी आप एक नये कंप्यूटर बनाने जा रहे हैं तो आपको कुछ सुरक्षा निर्देशों का ज्ञान होना चाहिए, नही तो कुछ दुर्घटना गठ सकता है । कंप्यटर बनाने व्यक्त ध्यान रखने वाले सुरक्षा निर्देशों जैसे :-

  • अपने कंप्यूटर पर काम करने से पहले हमेशा बिजली के सभी स्रोतों को डिस्कनेक्ट और अनप्लग है
  • कुछ हिस्से बिजली काट दिए जाने के बाद भी चार्ज स्टोर क सकते हैं । इन्हे प्राकृतिक रूप् से डिस्चार्ज होने के लिए कुछ समय दें ।
  • अपने बिजली की आपूर्ति या मॉनिटर जैसे अलग अलग हिस्सों को कभी भी अलग न करें ।
  • अपने कंप्यूटर के मामले में तेज धार का ख्याल रखें जिससे कट या चोट लग सकती है ।

अगर आपने ऊपर लिखे गये सुरक्षा निर्देशों को अच्छे से पड़ लिया और कंप्यूटर खोलने जोड़ने का आवश्यक टूल्स का बन्दबस्त कर लिया तो अव आपको बताते है कि आप खुद से कैसे कंप्यूटर बनायेंगे ।

कंप्यूटर कैसे बनाये (How to built Computer) ?

एक अच्छे कंप्यूटर जैसे गेमिंग कंप्यूटर या वर्क स्टेशन जैसे कंप्यूटर बनाने या असेम्बलिंग करने के लिए आपको कम से कमे आट पुरजों की आवश्यकता होगी जिनका नाम है :-

  • Computer Case
  • Motherboard
  • CPU/ Processor
  • CPU Cooler
  • Graphic card
  • Power Supply
  • Memory (RAM)
  • Storage Drives (HDD/ SSD)

इस भाग में आप सीखेंगे इन सभी पुरजों को कैस और कहॉ जोड़ कर, आप भी आपके लिए घर बेटे एक बेहतरीन कंप्यूटर बना सकते है ।

उपरोक्त के अलावा, यहा आपको कुछ दिलचस्प जानकारी भी मिलेगी जैसे कंप्यूटर में लगे हर एक पुरजा क्या है, यह पुरजे कैसे कार्य करता है और कंप्यूटर को चलने में इन पुरजों की क्या भूमिका रहता है ।

घवराइये मत एकदम आसान भाषा में इस लेख के जरिये आपको विस्तार से समझाउंगा (How to build computer in Hindi)।

ठीक है, चलिए कंप्यूटर बनाना शुरू करते हैं ।

कंप्यूटर बनाने के लिए सबसे पहला काम है एक कंप्यूटर केस या कैबिनेट को खोलना, मान लेते कि आपने एक कंप्यूटर केस को खरीद लिया है और अब आपको उसे खोलना है ।

स्टेप-1 : कंप्यूटर केस को खोलें

कंप्यूटर केस को खोलने से पहले चलिए इसके बारे में कुछ जान लेते है- यह क्या है, कितने प्रकार के है, कंप्यूटर केस के सामने और पिछले वाले हिस्सा में क्या अन्तर है ?

कंप्यूटर केस क्या है – What is Computer Case ?

कंप्यूटर केस को कंप्यूटर कैबिनेट, कंप्यूटर चेसिस, टॉवर एवं सिस्टम यूनिट के नाम से बोला जाता है । यह कंप्यूटर के जादातर पुरजों (Components) को एक जगह संलग्न करके रखता है, जिसको आमतौर पर सिस्टम यूनिट के नाम से जाना जाता है। यह स्टील, एल्यूमीनियम और प्लास्टिक से बनता है ।

कंप्यूटर केस के प्रकार – Types of Computer Case

कंप्यूटर केस की दो बुनियादी रूप होते है, टावर स्टाइल केस और डेस्कटॉप स्टाइल केस । डेस्कटॉप स्टाइल एक आयताकार (rectangular) बॉक्स के आकार में होता है और टावर केस, एक टावर के जैसे दिखता है ।

कंप्यूटर केस कई अलग अलग आकारों में आता है । कंप्यूटर केस का आकार और घटक आमतौर पर मदरबोर्ड के फॉर्म फैक्टर (Form Factor) द्वारा निर्धारित किया जाता है ।

कंप्यूटर केस आमतौर पर तीन प्रकार के होते हैं – ATX, Micro ATX, and Mini-ITX

कंप्यूटर केस में क्या क्या पुरजा लगता है ?

आमतौर पर इसमें चार भाग होता है Front Panel, Back Panel & two sides cover कंप्यूटर केस में आगे और पिछे की पेनल में कई प्रकार के महत्वपूर्ण पुरजें लगते है ।

Front Panel connectors के जरिये हम CD/DVD Drive, Reset switch, Power switch, Front panel audio आदि को कंप्यूटर के मदरबोर्ड से जोड़ते है ।

Back Panel connectors के जरिये हम Power connectors, Monitor connector, Keyboard and Mouse connectors, Internet connector, USB connectors, Speaker connectors आदि को कंप्यूटर के मदरबोर्ड से जोड़ते है ।

कंप्यूटर केस को कैसे खोलें (How to open computer case)

सबसे पहले कंप्यूटर केस के पिछे लगे स्क्रू को स्क्रू डाईवर के मदद से खोले, इसके बाद साइड कवर को हटा दें । ध्यान रखे कंप्यूटर केस की खुला हुया पक्ष उपर की ओर हो ।

जब आपने कंप्यूटर केस को खोल लिया तो अब बारी है इसमे महत्वपूर्ण components को जोड़ कर इसको एक बेहतरीन कंप्यूटर बनाना। सबसे पहले मदरबोर्ड से शुरू करते है, तो चलिए अव जानते है मदरबोर्ड के बारे में ।

स्टेप-2 : कंप्यूटर मदरबोर्ड (Motherboard) को जोड़े

मदरबोर्ड क्या है – What is Motherboard ?

मदरबोर्ड कंप्यूटर की रीढ़ की हडडी है जिसमें कंप्यूटर के सभी कंपोनेंटस और बाहरी पेरीफेरल्स जुड़ते हैं । मदरबोर्ड वह जगह है जहां आपके कंप्यूटर का सारा हार्डवेयर एवं भौतिक घटक एक-दूसरो से जुड़े रहते है ।

मदरबोर्ड के प्रकार Types of Computer Motherboard ?

मदरबोर्ड में अलग अलग फॉर्म फैक्टर होते है और इसे विभिन्न निर्माता और ब्रांड द्वारा बनाया जाता है । मदरबोर्ड के फॉर्म फैक्टर है ATX, EATX, Flex ATX, LPX, BTX, Micro/ Mini/ Thin ITX, Mini DTX etc कई प्रकार के ब्रांड द्वारा मदरबोड को बनाते है जैसे Intel, Asus, ASRock, MSI, Foxconn, Jetway, Biostar, Gigabyte आदि है ।

कंप्यूटर में मदरबोर्ड का क्या महत्व होता है -Function of Motherboard ?

मदनबोर्ड भौतिक रूप से कंप्यूटर के सभी हिस्सों को एक साथ जोड़ता है और यह कंप्यूटर के सभी कंपोनेंटस जैसे सीपीयू, मेमोरी, हार्ड डाइव, ऑप्टिकल डाइव, वीडियों कार्ड, साऊंड कार्ड और कई प्रकार के कंप्यूटर पुरजों के परस्पर क्रिया के लिए जिम्मेदार होता है ।

कंप्यूटर में मदरबोर्ड को कैसे जोड़े How to mount Motherboard in Computer

कंप्यूटर केस में मदरबोर्ड को जोड़ने के बाद, तीसरी महत्वपूर्ण component होता है सीपीयू (CPU) को जोड़ना, तो चलिए अव जानते है सीपीयू के बारे में ।

स्टेप-3 : सी पी यू (CPU/ Processor) को जोड़े

सी पी यू क्या होता है What is CPU in Hindi ?

CPU को सेंटल प्रोसेसिंग यूनिट और प्रोसेसर के नाम से जाना जाता है । यह इंसानों के दिमाग के जैसे कंप्यूटर के दिमाग है । इसके जरिये कंप्यूटर सभी कार्य को नियंत्रित और संचालित करता है ।

CPU के प्रकार – Types of Computer CPU

CPU कई प्रकार के होते है जैसे Signal-Core, Dual-Core, Quad-Core, Hexa-Core, Octa-Core एवं Deca-Core

CPU के मुख्य कार्य क्या है Functions of CPU ?

  • आमतौर पर ब्च्न् के चार मुख्य कार्य होता है,
  • यह यूजर से निर्देश प्राप्त करना और निर्देशों को पड़ता है ।
  • यह निर्देशों को डी कोड (decode) करता है ।
  • यह निर्देशों को निष्पादित और संसाधित करता है ।
  • यह डेटा को स्टोर करना एवं साथ ही साथ यूजर को आउटपुट देता है ।

मदरबोर्ड में CPU को कैसे जोड़े – How to install CPU in Motherboard ?

स्टेप-4 : सीपीयू कूलर (CPU Cooler) को जोड़े

CPU कूलर क्या है What is CPU Cooler ?

यह एक ऐसे घटक एवं पुरजा है जो सीपीयू के चिप, ग्राफिक्स प्रोसेसर और अन्य कंप्यूटर घटकों से उत्पादित गर्मी को दूर करता है । सीपीयू कूलर को सीपीयू चिप के उपर लगाया जाता है जिससे यह कंप्यूटर ऑपरेटिंग तापमान को सीमा के भीतर रखने में मदद करता है ।

CPU कूलर को कैसे जोड़े – How to install CPU Cooler ?

स्टेप-5 : ग्राफिक कार्ड (Graphics Card) को जोड़े

ग्राफिक कार्ड क्या होता हैं – What is a Graphic Card in Hindi ?

सभी कंप्यूटर में ग्राफिक्स कार्ड लगा नहीं रहता है । ग्राफिक्स कार्ड आपके कंप्यूटर के लिए एक विस्तार कार्ड होता है । ग्राफिक कार्ड आपके कंप्यूटर से छवियों को एकर्तित करता है और उन्हें आपके मॉनिटर पर प्रस्तुत करने का कार्य करता है ।

ग्राफिक कार्ड के प्रकार – Types of Graphic Card ?

ग्राफिक्स कार्ड के दो प्रकार होते है Integrated एवं dedicated ग्राफिक कार्ड ।

ग्राफिक कार्ड के कार्य – Functions of  Graphic Card ?

आमतौर पर गेमिंग, ग्राफिक्स प्रोडक्शन और माइनिंग क्रिप्टोकरेंसी के लिए हाई एंड ग्राफिक कार्ड का इस्तेमाल किया जाता है । ग्राफिक्स कार्ड कंप्यूटर में ग्राफिक्स और छवियों को तेजी से मॉनिटर पर प्रस्तुत करने में मदद करता है ।

मदरबोर्ड में ग्राफिक कार्ड को कैसे जोड़े How to install Graphic Card ?

स्टेप-6 : पॉवर सप्लाई केंद्र (Power Supply Unit) को जोड़े

पॉवर सप्लाई यूनिट क्या है – What is Power Supply Unit ?

पॉवर सप्लाई यूनिट किसी भी इलेक्टनिक सर्किट का एक महत्वपूर्ण पुरजा एवं पार्टस होता है जो सर्किट को बिजली प्रदान करता है जिसके बजे से उचित संचालन हो पाता है ।

पॉवर सप्लाई के प्रकार – Types of  Power Supply  ?

पॉवर सप्लाई को दो भागों में वर्गीकृत किया गया हैं Linear Regulated Power Supply एवं Switched Mode Power Supply । कंप्यूटर मे आजकल जो पॉवर सप्लाई यूनिट का उपयोग करते हैं उसे Switched Mode Power Supply (SMPS) बलते है ।

कंप्यूटर पॉवर सप्लाई भी कई प्रकार के होते है जैसे AT, ATX, BTX, Micro BTX.

Power Supply को मदरबोर्ड में कैसे जोड़े How to install Power Supply ?

स्टेप-7 : मेमोरी (Memory/ RAM) को जोड़े

कंप्यूटर सिस्टम में मेमोरी एक हार्डवेयर डिवाइस है जो कंप्यूटर प्रोग्राम, डेटा, ऑपरेंड या गणना संग्रहीत करने की काम करती है । मेमोरी मूल रूप से एक बड़ी मात्रा में बाइटस (Bytes) के संगम है । कंप्यूटर में मेमोरी के जरीये डेटा, सूचना और जानकारी को स्टोर करके रखा जाता है ।

कंप्यूटर की मेमोरी सिस्टम को चार भागो में विभाजित किया गया हैः- Internal Memory, Main Memory, Secondary Memory एवं Cache Memory.

आपको कंप्यूटर बनाने या assemble करने के व्यक्त उपर में दर्शाए गए हर प्रकार के मेमोरी के बारे में जानकारी रखना इतना आवश्यक नहीं है, उस व्यक्त आपको केवल हार्डवेयर से सीधे संबंधित दो मेमोरी जैसे Main Memory (RAM) एवं (HDD/ SSD) के बारे में जानकारी राखना जरूरी है ।

तो चलिए सबसे पहले आपको Main Memory (RAM) के बारे में जानकारी देता हु ।

RAM मेमोरी क्या होता है What is RAM ?

RAM के पूर्ण रूप है Random Access Memory । Random और Access से यह मतलब है कि कंप्यूटर की मेमोरी से आप डेटा या जानकारी को किसी भी क्रम में आसानी से पढ़ या इस्तेमाल कर सकते है ।

RAM को कंप्यूटर के मुख्य मेमोरी (Main Memory) के नाम से जाना जाता है। यह कंप्यूटर के एक ऐसी मेमोरी है जहां डेटा को प्रोसेसर की आवश्यकता के अनुसार थोड़े समये के लिए स्टोर करता है । यदि कंप्यूटर की पॉवर या स्विच बंद हो जाती है, तो मुख्य मेमोरी (RAM) में स्टोर या होल्ड किया हुया जानकारी/डेटा भी गायब हो जाता है ।

कंप्यूटर में RAM किस काम में आता है -Functions of RAM ?

RAM किसी भी डेटा को थोड़े समय के लिए स्टोर करता है । कंप्यूटर से किसी भी डेटा को पढ़ने और लिखने के व्यक्त मुख्य रूप से RAM का उपयोग होता है । RAM कंप्यूटर में प्रोग्राम के साथ-साथ डेटा को भी स्टोर करता है ।

कंप्यूटर RAM की मुख्य कार्य होता हैः-

  • फाइलो को पढ़ना
  • थोड़े समय के लिए अस्थायी रूप से डेटा को मेमोरी में स्टोर करना
  • एप्लीकेसन को लोड करना

RAM कितने प्रकार के होते है -Types of RAM

RAM मूल रूप से दो प्रकार की होती है, Dynamic RAM (DRAM) एवं Static RAM (SRAM) ।

मदरबोर्ड में RAM को कैसे जोड़े (How to mount RAM in Motherboard) ?

स्टेप-8 : स्टॉरेज ड्राइव (Storage Drives) को जोड़े

किसी भी कंप्यूटर सिस्टम में बड़ी और जादा मात्रा में डेटा या जानकारी को लंबे समय तक रखने के लिए स्टॉरेज डाइव की जरूरत होती है ।

स्टॉरेज डाइव क्या है (What is Storage Drives) ?

आमतौर पर स्टॉरेज डाइव को External मेमोरी और सेकेंडरी मेमोरी के नाम से जाना जाता है । यह डेटा को स्टोर करने के लिए अधिक स्टॉरेज प्रदान करता है ।

External मेमोरी एवं सेकेंडरी मेमोरी में कुछ महत्वपूर्ण गुण होते हैं जिसके बजे से कंप्यूटर के बंद होने के बाद भी डेटा या सूचना को उपयोग कर पाते है ।

लेकिन आपने देखा होगा Main Memory or RAM में यह सुविधा नहीं है, जेसे ही कंप्यूटर बंद होती है तो उसमें स्टोर या होल्ड किया हुया सूचना गायब हो जाता है ।

स्टॉरेज डाइव के प्रकार (Types of Storage Drives)

ऐसे तो स्टॉरेज डाइव के कोई प्रकार होते है जैसे Hard Disk Drive (HDD), Solid State Drive (SSD), DVD/CD Drive, Pen Drive आदि ।

लेकिन एक कंप्यूटर को बनाने व्यक्त आपको स्टॉरेज डाइव या सेकेंडरी मेमोरी में केवल HDD अथवा SSD की आवश्यकता होती है, उपर में दर्शाए गए अन्य स्टॉरेज डाइव वैकल्पिक (optional) हैं ।

कंप्यूटर में Storage Drives को कैसे जोड़े (How to mount Storage Drives) ?

स्टेप-9 : Case Fans and Front panel को जोड़े

स्टेप-10 : कंप्यूटर केस को बंद करें

आखिर में सभी पेरिफेरल्स जैसे डिसप्ले, कीबोर्ड, माउस, नेटवर्क, स्पीकर को जोड़े और कंप्यूटर के कैस को जोड़े ।

निष्कष (Conclusion)

मुझे आशा है कि इस लेख को पड़ने के बाद आप खुद से अपने लिए एक बेहतरीन कंप्यूटर बना सकेंगे और यह भी उम्मीद है कि कंप्यूटर बनाने में लगे सभी पुरजों के क्या काम है, उनके प्रकार और उनक महत्व के बारें में विस्तार में सीखने को मिला है ।

अगर आपको यह लेख पसंद आया तो इसे दूसरों के साथ सेयर करें और इस लेख को लेकर कोई भी सवाल या सूझाव है तो आप हमें कमेंट करके सूचित करें । क्योंकि आपके कमेंट हमें अगले पोस्ट को और बहेतर तरिके से लिखने में मदद और प्रेरित करेगा ।

अगर आपको यह पोस्ट अच्छा लगा तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करे ताकी उन्हें भी इस बारे में जानकारी प्राप्त हो सके ।

Satyajit Nath
Satyajit Nathhttps://tazahindi.com
इस पोस्ट के लेखक सत्यजीत है, वह इस वेबसाइट का Founder भी हैं । उन्होंने Information Technology में स्नातक और Computer Application में मास्टर डिग्री प्राप्त की हैं ।
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments

Data क्या है और यह कितने प्रकार का होता है ? - on बाइनरी नंबर सिस्टम क्या है | What is Binary Number System in Hindi