HomeCS SubjectsSDLC क्या है | What is SDLC in Hindi ?

SDLC क्या है | What is SDLC in Hindi ?

हेल्लो पाठकों !

क्या आप जानना चाहते है,SDLC क्या है (What is SDLC in Hindi), सॉफटवेयर विकसित करने में SDLC क्यों महत्वपूर्ण है, SDLC के विभिन्न चरण क्या है और SDLC मॉडल कितने प्रकार के होते है ।

आज हम डिजिटल युग में जी रहे है, जहां मोबाइल और कंप्यूटर के बिना हमारे जीवन अधुरा सा लगता है और इनके बिना ठीक से जीना भी मुसकिल है । आज हर कोई भिविन्न प्रकार के सॉफटवेयर का प्रतिदिन मोबाइल और कंप्यूटर में इस्तेमाल करता है । सॉफटवेयर हमारे जीवन को पहले की तुलना में बहुत आसान और तेज बना दिया है ।

तो चलिए SDLC के बारे में बिस्तार से सीखते है ।

SDLC क्या है (What is SDLC in Hindi) ?

SDLC का पूरा नाम Software Development Life Cycle है, जिसे हिन्दी में सॉफटवेयर विकास जीवन चक्र कहा जाता है।

SDLC सॉफटवेयर के निर्माण के लिए एक व्यवस्थित प्रक्रिया है जो निर्मित सॉफटवेयर की गुणवत्ता और शुद्धता सुनिचित करता है ।

SDLC सॉफटवेयर के निर्माण के लिए एक व्यवस्थित प्रक्रिया है जिसका उपयोग सॉफटवेयर उद्योग द्वारा उच्च गुणवत्ता वाले सॉफटवेयर के डिजाइन, विकास और परीक्षण के लिए किया जाता है ।

SDLC प्रक्रिया का उदेश्य उच्च गुणवत्ता वाले सॉफटवेयर का तैयार करना है जो ग्राहकों की अपेक्षाओं को पूरा करता है, या उससे अधिक है, सिस्टम का विकास पूर्व निर्धारित समय सीमा और लागत अनुमानों के भीतर पूरा होना है ।

SDLC एक सॉफटवेयर जीवन चक्र मॉडल एक विषेश अमूर्त है जो एक सॉफटवेयर जीवन चक्र का प्रतिनिधित्व करता है ।

SDLC में एक विस्तृत योजना होती है जो बताती है कि विशिष्ट सॉफटवेयर की योजना, निर्माण और रखरखाव कैसे करें । जीवन चक्र के प्रत्येक चरण की अपनी प्रक्रिया और डिलिवरेबल्स हैं जो अगले चरण में आते हैं ।

सॉफटवेयर विकसित करने में SDLC क्यों महत्वपूर्ण है (Why SDLC is important for developing a software) ?

एक सॉफटवेयर विकसित करने में SDLC बहुत महत्वपूर्ण है, इसके प्रमुख कारण है :-

  • यह प्रोजेक्ट प्लानिंग, शेडयूलिंग और अनुमान लगाने के लिए एक आधार प्रदान करता है ।
  • यह प्रोजेक्ट टैकिंग और नियंत्रण के लिए एक तंत्र है ।
  • विकास प्रक्रिया में शामिल सभी Stake Holders के लिए प्रोजेक्ट नियोजन की दृश्यता बढ़ाता है ।
  • यह विकास की गति में वृद्धि करता है ।
  • यह प्रोजेक्ट जोखिम और प्रोजेक्ट प्रबंधन योजना ओवरहेड को कम करने में सहायता करता है ।
  • यह गतिविधियों और डिलिवरेबल्स के एक standard सेट के लिए एक ढांचा प्रदान करता है ।
  • यह संरचित चरणों के ढांचे के भीतर एक सिस्टम सूचना प्रणाली को शुरुवात से विकसित करने की जटिलता को कम करने में मदद करता है जो प्रोजेक्ट को आकार देने और इसे आसानी से प्रबंधित करने में मदद करता है ।
  • यह एक विचार प्रोजेक्ट को एक कार्यात्मक और पूरी तरह से परिचालन सिस्टम में बदलने में मदद करता है ।

SDLC के विभिन्न चरण क्या है (Different phases in SDLC) ?

  • Requirement phase
  • Feasibility phase
  • Design phase
  • Implementation phase
  • Test phase
  • Installation and checkout phase
  • Operation and maintenance phase

SDLC मॉडल कितने प्रकार के होते है (Types of SDLC model) ?

  • Waterfall model
  • Incremental model
  • Spiral model
  • V-model
  • Big Bang model

निर्ष्कष – Conclusion

हर बार जब कोई नया प्रोजेक्ट या सॉफटवेयर प्रोजेक्ट का एक नया चरण जारी किया जाता है, तो Software Development Life Cycle का पालन करना महत्वपूर्ण होता है, ऐसा करके, एक नियंत्रित और standardised तरीके से मौजूदा समस्याओं के नए समाधान बनाने के लिए एक व्यवस्थित फैशन स्थापित करती हैं ।

इसलिए एक नई प्रोजेक्ट शुरू करने से पहले, यह पहचानना महत्वपूर्ण है कि SDLC सर्वोत्तम परिणाम देने के लिए समग्र आवश्यकताओं को कैसे कवर करेगा और कैसे पूरा करेगा ।

मुझे आशा है आपने SDLC क्या है (What is SDLC in Hindi), सॉफटवेयर विकसित करने में SDLC क्यों महत्वपूर्ण है, SDLC के विभिन्न चरण क्या है और SDLC मॉडल कितने प्रकार के होते है, इन सबके में आपने अच्छे से सीख लिया हैं ।

अगर फिर भी आपके मन में SDLC के बारे में कोई भी सवाल है तो आप हमे कमेंट करके सुचित कर सकते है ।

अगर आपको यह पोस्ट अच्छा लगा तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करे ताकी उन्हें भी इस बारे में जानकारी प्राप्त हो सके ।

Satyajit Nath
Satyajit Nathhttps://tazahindi.com
इस पोस्ट के लेखक सत्यजीत है, वह इस वेबसाइट का Founder भी हैं । उन्होंने Information Technology में स्नातक और Computer Application में मास्टर डिग्री प्राप्त की हैं ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here