HomeCS Subjectsनेटवर्किंग में कम्युनिकेशन मोड क्या है | What is Communication Mode in...

नेटवर्किंग में कम्युनिकेशन मोड क्या है | What is Communication Mode in Hindi

हेल्लो पाठकों !

क्या आप जानना चाहते है, नेटवर्किंग में कम्युनिकेशन मोड क्या है (What is Communication Mode in Hindi), और कम्युनिकेशन मोड कितने प्रकार होते है ।

तो चलिए कम्युनिकेशन मोड के बारे में विस्तार से जानते हैं ।

नेटवर्किंग में कम्युनिकेशन मोड क्या है (What is Communication Mode in Hindi) ?

कम्युनिकेशन मोड को हिन्दी में संचार साधन कहॉ जाता है ।

रेडियो नेटवर्क का वर्णन करने का एक तरीका यह है कि रेडियो उपकरणों के बीच संकेतों को प्रसारित और प्राप्त करने के तरीके पर विचार किया जाए, इसे कम्युनिकेशन मोड के रूप में भी जाना जाता है ।

यह एक नेटवर्क से जुड़े दो उपकरणों के बीच डेटा के हस्तांतरण के तंत्र को संदर्भित करता है । कम्युनिकेषन या संचार मोड सूचना के प्रवाह की दिषा को निदेशित करते हैं ।

कम्युनिकेशन मोड कितने प्रकार है (Types of Communication Mode) ?

सूचना के आदान प्रदान की दिशा के आधार पर कम्युनिकेशन मोड को निम्नलिखित तीन प्रकारों में बाटा जा सकता हैः-

  • Simplex Mode
  • Half Duplex Mode
  • Full Duplex Mode

Simplex Mode

इस मोड में, संचार एक तरफा होता है, जैसे कि एकतरफा सड़क । एक लिंक पर दो उपकरणों में से केवल एक ही संचारित कर सकता है, दूसरा केवल प्राप्त कर सकता है । सिमप्लेक्स मोड एक दिषा में डेटा भेजने के लिए चैनल की पूरी क्षमता का उपयोग कर सकता है ।

सिमप्लेक्स मोड के उदाहरण हैं, रेडियो और टीवी ट्रांसमिशन, कीबोर्ड, माउस आदि ।

Half Duplex Mode

इस मोड में, प्रत्येक स्टेशन संचारित और प्राप्त कर सकता है, लेकिन एक ही समय में नहीं । जब एक डिवाइस भेज रहा है, तो दूसरा केवल प्राप्त करस सकता है, और इसके विपरीत । हाफ डुप्लेक्स मोड का उपयोग उन मामलों में किया जाता है जहां एक ही समय में दोनों दिशाओं में संचार की आवश्यकता नहीं होती है । प्रत्येक दिषा के लिए चैनल की पूरी क्षमता का उपयोग किया जा सकता है ।

हाफ डुप्लेक्स मोड के उदाहरण हैं, वॉकी-टॉकी, इंटरनेट ब्राउजर आदि ।

Full Duplex Mode

इस मोड में, स्टेशन एक साथ टांसमिट और रिसीव दोनों कर सकते हैं। फुल डुप्लेक्स मोड में, एक दिषा में जाने वाले सिग्नल लिंक की क्षमता को दूसरी दिषा में जाने वाले सिग्नल के साथा सेयर करते हैं ।

इस मोड का उपयोग तब किया जाता है जब हर समय दोनों दिशाओं में संचार की आवश्यकता होती है । हालॉकि, चैनल की क्षमता को दो दिशाओं के बीच विभाजित किया जाना चाहिए ।

उदाहरण के लिए, एक टेलीफोन नेटवर्क, जिसमें दोनों व्यक्ति एक साथ बात कर सकते हैं और एक दूसरे को सुन सकते हैं ।

निर्ष्कष – Conclusion

मुझे आशा है इस पोस्ट से आपने कम्युनिकेशन मोड क्या है इसके बारे में आपने हिन्दी में ही पूरी जानकारी प्राप्त कर लिया हैं ।

अगर फिर भी आपके मन में कम्युनिकेशन मोड को लेकर कोई भी प्रश्न है तो आप हमें कमेंट करके पुछ सकते है।

FAQ’s

Q1 :

Ans :

अन्य पोस्ट पढ़े :-

अगर आपको यह पोस्ट अच्छा लगा तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करे ताकी उन्हें भी इस बारे में जानकारी प्राप्त हो सके ।

Satyajit Nath
Satyajit Nathhttps://tazahindi.com
इस पोस्ट के लेखक सत्यजीत है, वह इस वेबसाइट का Founder भी हैं । उन्होंने Information Technology में स्नातक और Computer Application में मास्टर डिग्री प्राप्त की हैं ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here