Home CS Subjects Computer Science कन्ट्रोल स्ट्रक्चर क्या है | What is Control Structure in Hindi ?

कन्ट्रोल स्ट्रक्चर क्या है | What is Control Structure in Hindi ?

8310
What is Control Structure in Hindi

हेल्लो पाठकों !

क्या आप जानना चाहते है, कन्ट्रोल स्ट्रक्चर क्या है (What is Control Structure in Hindi), कन्ट्रोल स्ट्रक्चर कितने प्रकार के होते है और हर एक प्रकार किस काम में आते है ।

जब हम एक बड़ा या अधिक जटिल कार्यक्रम बना रहे होते हैं, तो हमें अपने कार्यों के प्रवाह को नियंत्रित करने के लिए विभिन्न कन्ट्रोल स्ट्रक्चरों का उपयोग करने की आवश्यकता होती है ।

तो चलिए Control Structure के बारे में विस्तार से सीखते है ।

कन्ट्रोल स्ट्रक्चर क्या है (What is Control Structure in Hindi) ?

Control Structure का हिन्दी अर्थ नियंत्रण संरचना है ।

कन्ट्रोल स्ट्रक्चर कार्यक्रमों में नियंत्रण के प्रवाह को निर्दिष्ट करने का एक तरीका है । कोई भी एल्गोरिदम या प्रोग्राम अधिक स्पष्ट और समझा जा सकता है यदि वे स्वयं निहित मॉडयूल का उपयोग करते हैं जिन्हे तर्क या नियंत्रण संरचना कहा जाता है ।

एक कन्ट्रोल स्ट्रक्चर कोड का एक ब्लॉक है जो मूल रूप से अंतपंइसम का विश्लेषण करता है और एक दिशा चुनता है कि कुछ मापदंडों या षर्तों के आधार पर कोई कार्यक्रम किस दिशा में जाना है ।

कोड के यू टुकड़े कंप्यूटिंग में सबसे बुनियादी निर्णय लेने की प्रक्रियाओं का प्रतिनिधित्व करते है ।

कन्ट्रोल स्ट्रक्चर कितने प्रकार के होते है (Types of control structures) ?

इसके तीन बुनियादी प्रकार के तर्क या नियंत्रण के प्रवाह हैं, जिन्हें इस रूप में जाना जाता हैं :-

  • Sequence logic or sequential flow
  • Selection logic or conditional flow
  • Iteration logic or repetitive flow

Sequence logic or sequential flow

यह तर्क एक धारावाहिक या अनुक्रमिक प्रवाह का अनुसरण करता है जिसमें प्रवाह कंप्यूटर को दिए गए निर्देंशों की श्रृंखला पर निर्भर करता है । जब तक इसके विपरीत जानकारी नहीं दी जाती है, मॉडयूल स्पष्ट क्रम में निष्पादित होते हैं । अनुक्रम क्रमांकित चरणों या क्रम का हो सकता है जिसमें मॉडयूल लिखे जाते है ।

Selection logic or conditional flow

इस तर्क में कई स्थितियॉ होती हैं जो कई वैकल्पिक मॉडयूल में से एक के चयन की ओर ले जाती हैं । इसे लागू करने के लिए उपयोग किए जाने वाले स्टर्चर को सशर्त संरचना या यदि संरचना कहा जाता है ।

इस प्रकार के तर्क का उपयोग करने वाली संरचनाओं को बवदकपजपवदंस ेजतनबजनतम या पि ेजनतबजनतम के रूप में जाना जाता है ।

ये संरचनाएं तीन प्रकार की हो सकती है, सिंगल विकल्प, दोहरा विकल्प और मल्टीप्ल विकल्प ।

Iteration logic or repetitive flow

इटरेशन लॉजिक एक लूप को नियोजित करता है जिसमें एक रिपीट स्टेटमेंट शामिल होता है जिसके बाद एक मॉडयूल होता है जिसे लूप के षरीर के रूप में जाना जाता है ।

इस तर्क में दो संरचनाए होती हैं जिनमें दोनों लूप शामिल होते हैं । संरचना रिपीट स्टेटमेंट के साथ शुरू होती है, उसके बाद मॉडयूल, जिसे लूप का बॉडी और फिर लूप का अंत कहा जाता है ।

निर्ष्कष –Conclusion

नियंत्रण संरचना प्रोग्रामिंग के एक ब्लॉक की तरह है जो वेरिएबल का विश्लेषण करती है और एक दिषा चुनती है जिसमें दिए गए मापदंडों के आधार पर जाना है । यह कंप्यूटिंग में बुनियादी निर्णय लेने की प्रक्रिया है ।

मुझे आशा है आपने एल्गोरिदम में कन्ट्रोल स्ट्रक्चर या नियंत्रण संरचना क्या है (What is Control Structure in  Hindi) और इसके हर एक प्रकार के किस काम में आता है, इसके बारे में आपने अच्छे से जानकारी मिल गया हैं ।

अगर फिर भी Control Structure के बारे में आपके मन में कोई भी सवाल है तो आप हमें कमेंट करके सूचित कर सकते है ।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here