HomeComputer Scienceसॉफ्टवेयर इंजीन्यरिंग क्या है | What is Software Engineering in Hindi

सॉफ्टवेयर इंजीन्यरिंग क्या है | What is Software Engineering in Hindi

हेलो पाठकों, अगर आप सॉफ्टवेयर इंजीन्यरिंग क्या है (What is Software Engineering), इस पर एक सरल, आसान गाइड की तलाश में है तो आप सही जगह पर आए है ।

यह एक सुपर आसान गाइड है जिसका आप अनुसरण कर सकते हैं, खासकर उन लोगों के लिए जिन्हें टेक्नॉलजी के बारे में उतनी जानकारी नहीं है ।

आज इस लेख में आपको सॉफ्टवेयर इंजीन्यरिंग के बारे में पूरा जानकारी दुगां जिसमें सॉफ्टवेयर इंजीन्यरिंग क्या होता है (What is Software Engineering in Hindi), सॉफ्टवेयर इंजीन्यरिंग के प्रकार (Types of Software Engineering), इसके आवश्यकता, एक सॉफ्टवेयर इंजीन्यर बनने के लिए आवश्यक योग्यता, इसमे करियर कि विकल्प और सॉफ्टवेयर इंजीन्यर बनने के फायदे, इन सब के बारे में अच्छे से जानकारी दुंगा ।

इसलिए इस लेख को ध्यान से शुरू से लेकर अन्त तक पूरा पढ़िए, आपको आसानी से समझ में आ जायेगा ।

हम सब अच्छे से जानते हे की आज कल हर कोई चाहे वह बच्चे, जवान और बुजुर्ग व्यक्ति क्यों न हो अपने जीवन में भिविन्न प्रकार के सॉफ्टवेयर को प्रतिदिन मोबाइल और कंप्यूटर के माध्यम से उपयोग करते है । मोबाइल और कंप्यूटर के बिना हमारे जिवन अधुरा लगता है ।

क्योंकि मोबाइल और इंटरनेट के जरिये हम कही से भी किसी से बात कर सकते है और अपने ज्ञान और समस्या को दुसरे के साथ सेयर कर सकते है ।

और ये सब भिविन्न प्रकार के सॉफ्टवेयर के विकास के कारण ही संभव हो पाया है ।

इसलिए अगर आप एक कॉलेज के छात्र है या कॉलेज में प्रवेश करने वाले है और कंप्यूटर, मोबाइल या टैकनोलजी में रूची रखते हे तो सॉफ्टवेर इंजीन्यरिंग सीखना आपके करयर के लिए लाभदायक होगा ।

अब एक प्रश्र स्पष्ट रूप से आपके मन में जरूर आया होगा, मैं कौन हूं और आप मेरी सलाह को क्यों पढ़ेंगे ?

में सत्यजीत, इनफॉरमेषन टेक्नोलॉजी में स्नातक (BSc in IT) और कंप्यूटर एप्लीकेषन में मास्टर (MCA) डिग्री हासिल किया हु । कंप्यूटर प्रोग्रामिंग, वेबसाइट डिजाइनिंग, तकनीकी विषय में ब्लॉग लिखना और विभिन्न प्रोग्रामिग भाषाओं पर अलग अलग सॉफ्टवेयर बनाने में रूचि हैं । कंप्यूटर एवं सॉफटवेयर क्षेत्र में मेरी लग-भग 10 साल की अनुभव भी है।

मेरी शैक्षिक योग्यता/डिग्री का यहा खुलासा इसलिए किया की आपका आत्मविश्वास को बढ़ा सके जिससे आप बिना किसी झिझक के इस लेख को पढ़ सके।

तो चलिए शुरू करते हैंः-

Table of Contents

सॉफटवेयर इंजीन्यिरिंग क्या है (What is Software Engineering in Hindi)

सॉफ्टवेयर इंजीन्यरिंग दो शब्दो सॉफ्टवेयर (Software) एवं इंजीन्यरिंग (Engineering) से मिलकर बना हुआ है। चलिए पहले इन दोनो शब्दो का अर्थ आपको अच्छे से समझाता हुॅ।

सॉफ्टवेर क्या है (What is Software)

कंप्यूटर एक इलेक्टॉनिक उपकरण होने के कारण मनुष्य द्वारा उपयोग की जाने वाले भाषा को नहीं समझ पाता है वह केवल प्रोग्रामिंग भाषा मे लिखे गये वाक्य या निर्देश को समझ पाता है ।

कंप्यूटर प्रोग्रामिंग भाषा मे लिखे गये एक निर्देशों का समूह है जो कंप्यूटर को बताता हैं कि क्या कार्य करना है उसे सॉफटवेयर कहा जाता है ।
सॉफ्टवेयर कंप्यूटर का वह हिस्सा है जो कोड या प्रोग्रामिंग निर्देशों से संबंधित है जिसके अनुसार कंप्यूटर कार्य करता है ।

कंप्यूटर से किसी कार्य को करने के लिए कंप्यूटर के हार्डवेयर (Electronic Devices) को निर्देश देना पड़ता है और उस निर्देशित करने वाले निर्देशों का एक समूह को सॉफ्टवेयर प्रोग्राम कहा जाता है ।

Software = Programs + Documentation + Operating procedures

What is Software

इंजीन्यरिंग क्या है (What is Engineering)

इंजीन्यिरिंग उपयोगी उपकरणों और प्रणालियों के निर्माण, संचालन, संशोधन और रखरखाव के लिए अच्छी तरह से समझी जाने वाली वैज्ञानिक विधियों का अनुप्रयोग है ।

सॉफ्टवेयर इंजीन्यिरिंग क्या है (What is Software Engineering)

सॉफ्टवेयर इंजीन्यिरिंग विज्ञान और गणित का अनुप्रयोग है जो कंप्यूटर, मोबाइल और अन्य इलेक्टॉनिक गैजेटस में लगी उपकरणों की क्षमताओं को कंप्यूटर प्रोग्राम या कोड के माध्यम से मनुष्यों के लिए उपयोगी बनाता है ।

सॉफ्टवेयर इंजीन्यिरिंग को उपयोग कर्ता की आवश्यकताओं का विश्लेशण करने और फिर सॉफटेवेर को डिजाइन, निर्माण और परीक्षण करने की प्रक्रिया के रूप में परिभाषित किया गया है ।

सरल भाषा में, सॉफ्टवेयर इंजीन्यिरिंग एक प्रक्रिया है जिसमें उपयोगकर्ता की समस्या या आवश्यकता का अध्यन करके कंप्यूटर सिस्टम तथा किसी अन्य इलेक्टॉनिक उपकरोणों के लिए सॉफ्टवेयर का निर्माण करना होता है जो यूजर की उस समस्या का समाधान करता है ।

इन्हें भी पढ़ेः-

सॉफ्टवेयरके प्रकार (Types of Software)

सॉफ्टवेयर का आज बड़े पैमाने में कोई क्षेत्र जेसे बैंकों, स्कूलों, अस्पतालों, वित्त, रक्षा, इंजीन्यिरिंग, शेयर बाजारों आदि में उपयोग किया जाता है ।

आज के संसार में हम हर जगह अलग अलग सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल करते है, चाहे आप कंप्यूटर, मोबाइल या कोई भी सोशल मीडिया का इस्तेमाल कर रहे हो तो आप अनेक प्रकार के सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल कर ही रहे होंगे ।

इसको इस्तेमाल के अनुसार विभिन्न प्रकारों में विभाजित करते है :-

  • System Software
  • Application Software
  • Web based software
  • Networking Software
  • Embedded Software
  • Business Software
  • Engineering and Scientific Software
  • Artificial Intelligence Software
  • Reservation Software
  • Entertainment Software
  • Utilities Software
  • Document Management Software

सॉफ्टवेयर इंजीन्यिरिंग मे कौन कौन से बिषय होते है (Subjects cover in Software Engineering)

सॉफ्टवेयर इंजीन्यिरिंग का उद्धेश्य quality सॉफ्टवेयर का उत्पादन करना, जो बजट के भीतर समय पर बनाना और यूजर की आवश्यकता को पूरा करता हो । इस कारण सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग में विभिन्न प्रकार के विषय के बारे में सीखाया जाता है ।

सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग में निम्नलिखित बिषय होता है :-

  • Software engineering terminologies
  • Software engineering methodologies
  • Software development approaches
  • Software design process
  • Software reliability
  • Object oriented design
  • How to assessment of process lifecycle model
  • How to configure the management
  • Software testing phase
  • Software installation and checkout phase
  • Post implementation phase

सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग का क्या जरूरत है (Need of Software Engineering in Hindi)

आज हर उद्योग में, हर व्यवसाय में एवं लगभग प्रत्तेक कार्य के लिए हमें कोई न कोई सॉफटवेयर की मदद लेनी पड़ता है इस कारण से ही सॉफटवेयर इंजीनियरिंग का दिन प्रति दिन महत्व बड़ गया है ।

आज के जीवन में हर कोइ ऑनलाइन आना चाहता है तथा अपने कैरियर और व्यवसाय को इंटरनेट एवं सॉफटवेयर के मदद से पहले से बेहतर बनाना चाहता है ।

सॉफटवेयर इंजीनियरिंग की आवश्यकता युजर की आवश्यकताओं और उस वातावरण में उच्च दर के कारण पड़ती है ।

किसी भी व्यवसाय या उद्योग को सॉफटवेयर इंजीनियरिंग की जरूरत निम्नलिखित कारणों से पड़ती है :-

  • बड़े पेमाने में प्रोग्रामिंग के कारण
  • बड़े सॉफटवेयर डिजाइन और विकास के कारण
  • अनुकूलन क्षमता के कारण
  • कम लागत के कारण
  • गतिशील प्रकृति के कारण
  • गुणवत्ता प्रबंधन के कारण


सॉफ्टवेयर इंन्जीन्यिर का क्या कार्य होता है (Role and responsibility of Software Engineering)

सॉफटवेयर इंजीनियरिंग ऐसे कार्य हे जो उपयोगी सॉफटवेयर विकसित करने और वितरित करने से संबंधित है । सॉफटवेयर इंजीनियर के निम्नलिखित कार्य या जिम्मेदारियां होता हैः-

  • सॉफटवेयर के आवश्यकता को समझना
  • विभिन्न तकनीकों का उपयोग करके एक प्रसंस्करण मंच का डिजाइन और विकसित करना
  • डिजाइन को मशीन के द्वार समझने की रूप में अनुवादित करना
  • सॉफटवेयर विकास पद्धति का परीक्षण करना
  • समय समय पर रखरखाव और सहयोग प्रदान करना
  • अन्य इंजीनियरों जेसे डेटा वैज्ञानिक, व्यावसायिक उपयोगकर्ता, परियोजना प्रवंधक और अन्य इंजीनियरों के साथ तालमिल बनाये रखना और क्रॉस फंक्शनल सहयोग करना
  • सॉफटवेयर में सुधार के लिए निरंतर सिफारिश करना


सॉफ्टवेयर इंजीन्यिरिंग की आवश्यकता क्या है ?


सॉफ्टवेयर इंजीन्यिरिंग का महत्व क्या है ?


सॉफ्टवेयर इंन्जीन्यिर कैसे बनें (How to become a Software Engineer)

आज टेकनालोजी दुनिया में बहुत से समस्या को हल कर रही है । एक नये सॉफटवेयर को डेवलप करने से हजारों श्रमिकों के प्रयासों को कम किया जा सकता है ।

एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनने के लिए आपको सबसे पहले अलग अलग प्रोग्रामिंग भाषा को सीखना और उन पर ंमहारत हासिल करना होगा ।
सॅफ्टवेयर इंजीनियर बनने के लिए यूजर के समस्या या जरूरत के अनूसार समाधान के रूप में एक सॉफ्टवेयर को बनाना आना चाहिए ।

सॉफ्टवेयर इंजीनियर एक ऐसे पेशा है जो हमेशा समय के साथ बदलते रहता है । इसलिए आपको नई तकनीकों के विकसित होते ही उसे सीखने की आवश्यकता होगी ।

सॉफटवेयर इंजीनियर के नौकरिया दुनिया में सबसे अधिक वेतन देने वाली नौकरिया में से एक है । सॉफटवेयर इंजीनियरों का वेतन उद्योग, स्थान और कर्मचारी के अनुभव के आधार पर भिन्न होते है ।

PayScale की रिपोर्ट के अनुसार सॉफटवेयर इंजीनियरों के औसत वार्षिक वेतन $87,546 होता है :-

लेकिन आपको वास्तव में इस क्षेत्र में कामियाव होने के लिए बहुत धैर्य, निरंतर सीखने और निरंतर सुधार की आवश्यकता है ।

अगर आप इस क्षेत्र में नये हो तो आपके लिए यह पता लगाना मुश्किल होगा कि आप कहां से सॉफटवेयर इंजीनियर बनने का सफर को शुरू करें । चलिए में आपको बताता हु की आप कैसे एक सॉफटवेयर इंजीनियर बन सकते है ।

देखीये आप यह मत सोचिए की एक अच्छा सॉफटवेयर इंजीनियर बनने के लिए आपको कंप्यूटर या इंजीनियरिंग डिग्र्री को हासिल करना जरूरी है, ऐसे भी कोई लोग उधाहरण बने है जो किसी कॉलेज के डिग्री के बिना भी आज प्रसिद्ध सॉफटवेयर कोम्पनी में कार्य कर रहे है ।

मेरी निजी अनुभव से यह लगता है कि, एक सफल सॉफटवेयर इंजीनियर बनने के लिए केवल कंप्यूटर प्रोग्रामिंग भाषा में अच्छे से पकड़ हो और प्रोग्राम के माध्यम से अलग अलग समस्या का समाधान करना आना चाहिए ।

सॉफटवेयर इंजीनियर बनने की पारंपरिक तरीका के बात करें तो इस तराह है :-

  1. 12 वी कक्ष साइंस लेकर पास करना होगा जिसमें आपको फिजिक्स, केमेस्टी, गणित और कंप्यूटर विषय होनी चाहिए ।
  2. कंप्यूटर विज्ञान से संबंधित डिग्री कोर्स जेसे B.Sc- CS/IT, BCA, BE, BTech करनी चाहिए।
  3. किसी एक प्रोग्रामिंग भाषा जेसे Java, Python, C++, C#, Ruby, JavaScript में से एक को अपने इच्छा के अनुसार चूने और उस पर महारत हासिल करें ।
  4. डेटा स्टाकचार और एल्गोरिदम का अच्छे से अध्ययन करें ।
  5. सॉफटवेयर अपडेट और नई तकनीकों के साथ खुद को अपडेट करते रहै ।
  6. सॉफटवेयर चतवरमबज को डिजाईन और डेवलप करना सीखे।
  7. किसी भी कंपनी में एक beginner/fresher के तौर पर कुछ दिन इंटर्नशिप करें ।

उपरोक्त सभी चीजें कर ली हैं तो आखीर में नौकरी के लिए आवेदन शुरू करें, आशा करता हु की आपको एक अच्छी सॉफटवेयर इंजीनियर के नौकरी मिल जायेगा ।


सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट कैसे काम करता है ?

सॉफ्टवेयर इंजीन्यिरिंग के लाभ ?

सॉफ्टवेयर की विशेषताएं ? (Characteristics of software)


एक अच्छे सॉफ्टवेयर के निम्नलिखित गुण होते है :-

  • Robustness
  • Security
  • Reliability
  • Flexibility
  • Testability
  • Platform independent

सॉफ्टवेयर इंजीन्यिरिंग में करियर के विकल्प (Career in Software Engineering)

आज हम सब डिजिटल युग में जी रहे हैं जाहा हर दिन नए और बेहतर सॉफटवेयर औ मोबाइल ऐप की आवश्यकता पड़ती है और इस कारण सॉफटवेयर इंजीनियर कि मांग बड़ रहा है ।

विभिन्न उद्योगों और निगमों में मजबूत मांग के कारण सॉफटवेयर इंजीनियर हमेसा नौकरी के व्यापक चयन का आनन्द लेते हैं ।

अगर आपके पास अच्छे सॅाफटवेयर इंजीनियरिंग का कौशल हे तो आप बड़े या छोटे स्टार्टआप्स अथवा के में काम मिल सकता है ।

अपका भविष्य बिना किसी संदेह के उज्ज्वल है यदि आपके पास सॉफटवेयर इंजीनियरिंग क्षैत्र में अच्छा ज्ञान और अनुभव है । सभी विकल्प में से कुछ महत्वपूर्ण अवसर हैं :-

  • Software Engineer
  • Software Developer
  • Programmer
  • Video game designer
  • Game developer
  • DevOps Engineer
  • Front End Engineer
  • Back End Engineer
  • Full Stack Engineer
  • Web developer & designer
  • Cyber security analyst
  • IT Consultant
  • Information Systems manager
  • Game developer
  • Data Analyst
  • Application developer

निष्कर्ष (Conclusion)

आशा करता हु की आपको सॉफ्टवेयर इंजीन्यरिंग के बारे में पूरा जानकारी मिल गया है ।

अगर आपको यह पोस्ट अच्छा लगा तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करे ताकी उन्हें भी इस बारे में जानकारी प्राप्त हो सके ।

Satyajit Nath
Satyajit Nathhttps://tazahindi.com
इस पोस्ट के लेखक सत्यजीत है, वह इस वेबसाइट का Founder भी हैं । उन्होंने Information Technology में स्नातक और Computer Application में मास्टर डिग्री प्राप्त की हैं ।
RELATED ARTICLES

3 COMMENTS

  1. Hello, I believe that I saw you visited my blog so I came to return the choose? I am attempting to to find things to improve my web site! I assume its adequate to make use of a few of your ideas!!|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments

Data क्या है और यह कितने प्रकार का होता है ? - on बाइनरी नंबर सिस्टम क्या है | What is Binary Number System in Hindi