Home Web Development फ्रंट एंड डेवलपमेंट क्या है | What is Front End Development in...

फ्रंट एंड डेवलपमेंट क्या है | What is Front End Development in Hindi

2622
What is Front End Development in Hindi

हेल्लो पाठकों !

क्या आप जानना चाहते है, फ्रंट एंड डेवलपमेंट क्या है (What is Front End Development in Hindi), इसमें कौन कौन से प्रोग्रामिंग लैंग्वेज का इस्तेमाल किया जाता है और फ्रंट एंड डेवलपमेंट को कैसे सीख सकते हो ।

तो चलिए फ्रंट एंड डेवलपमेंट के बारे में विस्तार से जानते है ।

फ्रंट एंड डेवलपमेंट क्या है (What is Front End Development in Hindi )?

एक वेबसाइट पर आप जो कुछ भी देखते हैं, जैसे बटन, लिंक, एनिमेशन, और बहुत कुछ, एक फ्रंट एंड वेब डेवलपर द्वारा बनाया गया होता है ।

फ्रंट एंड डेवलपमेंट ऐसी चीजें है जो उपयोगकर्ता देख सकता है ।

फ्रंट एंड डेवलपर का काम क्लाइंट से विजन और डिजाइन कॉन्सेप्ट लेना और कोड के जरिए इसे लागू करना है ।

फ्रंट एंड किसलिए महत्वपूर्ण है (Why Front End is important) ?

फ्रंट एंड डेवलपमेंट महत्वपूर्ण है क्योंकि यह किसी भी वेबसाइट के विजन, लुक, फील, व्यक्तित्व को दर्शाता है ।

तेजी से बढ़ती वेब आधारित दनिया में, किसी व्यवसाय का वेबपेज अक्सर उसकी पहली छाप और साथ ही ग्राहकों के साथ उसकी पहली बातचीत होती है ।

प्रभावशाली वेबसाइटें व्यावसायिक लोगो, उत्पादों डिजाइनों, और अन्य सभी पहलूओं के साथ शक्तिशाली, सुनियोजित ब्रांडिंग के साथ जुड़ती हैं । इस ब्रांडिंग का ग्राहकों तक पहुंचाने के लिए फं्रड एंड डेवलपमेंट महत्वपूर्ण है ।

फ्रंट एंड डेवलपर बनने के लिए आपको किन कौशलों की आवश्यकता है (What skills do you need to become a Front End Developer) ?

  • फ्रंट एंड डेवलपर बनने के लिए आपके पास निम्नलिखित कौशल होने चाहिए :-
  • आपको HTML, CSS और JavaScript के बारे में अच्छा ज्ञान होनी चाहिए ।
    आपके पास Frameworks और Libraries का भी ज्ञान होना चाहिए ।
  • Libraries
  • Developer tools and software

फ्रंट एंड डेवलपर का क्या कार्य है (What does a Front End Developer do) ?

फ्रंट एंड डेवलपर की मुख्य जिम्मेदारी यूजर इंटरफेस बनाने से है । सीधे शब्दों में कहें तो यह एक फ्रंट एंड डेवलपर वेबसाइटों और वेब एप्लिकेशन के फ्रंट एंड हिस्से का निर्माण करता है यानी वह हिस्सा जिसे उपयोगकर्ता वास्तव में देखते हैं और उसके साथ इंटरैक्ट करते हैं ।

फ्रंट एंड डेवलपर्स यूजर इंटरफेस बनाते हैं जो यह निर्धारित करता है कि साइट या एप्लिकेशन का प्रत्येक भाग क्या करता है और यह कैसा दिखेगा ।

फ्रंट एंड डेवलपर यह निर्धारित करता है कि वेबसाइट में छवियों को कहां रखा जाए, नेविगेशन कैसा दिखना चाहिए और साइट को कैसे प्रस्तुत किया जाए ।

उनके अधिकांश कार्यों में यह सुनिश्चित करना शामिल है कि साइट या एप्लिकेशन का स्वरूप और लेआउट उपयोगकर्ता के लिए नेविगेट करने में आसान और सहज है ।

फ्रंट एंड डेवलपमेंट में उपयोग किए जाने वाले कौनसे उपकरण होते है (Tools used in Front End Development) ?

  • Graphic Design Tools
  • Code Editing Tools

फ्रंट एंड डेवलपमेंट कैसे सीख सकते हो (How to learn Front End Development) ?

फ्रंट एंड डेवलपर बनने के लिए, निम्नलिखित क्रम में दिए गए विषयों से सीखना शुरू करें :-

पहली चीज जो आपको सीखनी है वह है HTML, जो वेब पेज बनाने के लिए स्टैंडर्ड मार्कअप भाषा है । तो, HTML के साथ वेबसाइट की संरचना बनाए ।

इसके बाद CSS सीखना है, CSS के मदद से आपके वेब पेज के लेआउट को सुंदर रंगों, फोंट और बहुत कुछ के साथ सेट करना है । CSS के साथ अपनी वेबसाइट को स्टाइल करें ।

HTML और CSS का अध्ययन करने के बाद, आपको अपने उपयोगकर्ताओं के लिए गतिशील और इंटरैक्टिव वेब पेत बनाने के लिए JavaScript सीखना चाहिए । आपके वेबसाइट को JavaScript के साथ इंटरैक्टिव बनाए ।

एक बार जब आप HTML, CSS और JavaScript की मूल बातें सीख लेते हैं, तो आप विभिन्न frameworks और libraries के बारे में सीखे, क्योंकि यह उपकरण विकास प्रक्रिया को गति देने में मदद करते है ।

फ्रंट एंड एवं बैक एंड के बीच क्या अंतर है (Difference between Front End and Back End) ?

Front End DevelopmentBack End Development
वेबसाइट का वह हिस्सा जिससे उपयोगकर्ता सीधे इंटरैक्ट करता है, उसे फ्रंट एंड बला जाता है ।यह वेबसाइट का वह हिस्सा है जिसे आप देख और इंटरैक्ट नहीं कर सकते । यह सॉफटवेयर का वह भाग है जो उपयोगकर्ताओं के सीधे संपर्क में नहीं आता है ।
इसमें वह सब कुछ शामिल है जो उपयोगकर्ता सीधे अनुभव करते है, टैक्स्ट रंग और स्टाईल, चित्र, ग्राफ और टेबल, बटन, रंग और नेविगेशन मेनू ।यह डेटा को स्टोर और व्यवस्थित करता है, और यह भी सुनिश्चित करता है कि वेबसाइट के क्लाइंट साइड पर सब कुछ ठीक काम करता है ।
इसे एप्लिकेशन के क्लाइंड साइड के रूप में भी जाना जाता है ।बैकएंड वेबसाइट का सर्वर साइड है ।
फ्रंट एंड को कुछ HTML, CSS, JavaScript, JavaScript, Django भाषाओं का उपयोग करके बनाया गया है ।बैकएंड भाग कुछ प्रोग्रामिंग भाषाओं PHP, C++, Java, Python, Node.js का उपयोग करके बनाया गया है ।

निर्ष्कष – Conclusion

मुझे आशा है इस पोस्ट से आपने फ्रंट एंड डेवलपमेंट (Front End Development) के बारे में पूरी जानकारी हिन्दी में प्राप्त कर लिया है ।

अगर फिर भी फ्रंट एंड डेवलपमेंट को लेकर आपके मन में अन्य कोई सवाल हैं तो आप हमें टिप्पणी अनुभाग के जरीए पुछ सकते है ।

FAQ’s

Q1 :  

Ans:

अन्य पोस्ट पढ़ें:

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here