HomeCS SubjectsArtificial Intelligenceग्रिड कम्यूटिंग क्या है | What is Grid Computing in Hindi

ग्रिड कम्यूटिंग क्या है | What is Grid Computing in Hindi

हेल्लो पाठकों !

क्या आप जानना चाहते है, ग्रिड कम्यूटिंग क्या है (What is Grid Computing in Hindi), ग्रिड कम्यूटिंग कितने प्रकार होते है, ग्रिड कंप्यूटिंग का उपयोग क्यों किया जाता है, ग्रिड कंप्यूटिंग के क्या फायदे हैं, ग्रिड कंप्यूटिंग की विशेषताएं क्या हैं, ग्रिड कंप्यूटिंग कैसे काम करती हैं, ग्रिड कंप्यूटिंग और क्लाउड कंप्यूटिंग में क्या अंतर है ।

तो चलिए Grid Computing के बारे में विस्तार से समझते हैं ।

ग्रिड कम्यूटिंग क्या है (What is Grid Computing in Hindi) ?

ग्रिड कंप्यूटिंग को एक ऐसे कार्य को करने के लिए एक साथ काम करने वाले कंप्यूटरों के नेटवर्क के रूप में परिभाषित किया जा सकता है जो एक मशीन के लिए कठिन होगा ।

ग्रिड कंप्यूटिंग एक कंप्यूटिंग इन्फ्रास्टक्चर है जो एक सामान्य लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए विभिन्न भौगोलिक स्थानों में फैले कंप्यूटर संसाधनों को जोड़ती है । कई कंप्यूटरों पर सभी अप्रयुक्त संसाघनों को एक साथ जमा किया जाता है और एक ही कार्य के लिए उपलब्ध कराया जाता है ।

संगठन बड़े कायों को करने या जटिल समस्याओं को हल करने के िए ग्रिड कंप्यूटिंग का उपयोग करते हैं जो एक कंप्यूटर पर करना मुश्किल होता है ।

ग्रिड कम्यूटिंग कितने प्रकार होते है (Types of grid computing) ?

ग्रिड कंप्यूटिंग को इसक उपयोग और कार्य के आधार पर कई प्रकारों में विभाजित किया गया है । जैसे कि :-

  • Computational grid computing
  • Data grid computing
  • Collaborative grid computing
  • Manuscript grid computing
  • Modular grid computing

ग्रिड कंप्यूटिंग का उपयोग क्यों किया जाता है (Why use grid computing) ?

आम तौर पर बड़े कार्यों को करने या जटिल समस्याओं को हल करने के लिए ग्रिड कंप्यूटिंग का उपयोग करते हैं जिसे एक कंप्यूटर पर करना मुश्किल होता है या एक कंप्यूटर द्वारा संभालना असंभव है ।

ग्रिड कंप्यूटिंग सुपरकंप्यूटर की आवश्यकता को कम करती है, और ग्रिड कंप्यूटिंग से सुपरकंप्यूटर का लाभ उठाते हुए दो या दो से अधिक संगठन एक साथ काम कर सकते हैं ।

ग्रिड कंप्यूटिंग के क्या फायदे हैं (Advantages of grid computing) ?

ग्रिड कंप्यूटिंग उपयोग करने का फायदे निम्न प्रकार हैं :-

  • यह केंद्रीकृत नहीं है, क्योंकि नियंत्रण नोड को छोउ़कर किसी सर्वर की आवष्यकता नहीं है, जिसका उपयोग केवल नियंत्रण के लिए किया जाता है और प्रसंस्करण के लिए नहीं ।
  • एकाधिक विषम मशीनें यानी विभिन्न ऑपरेटिंग सिस्टम वाली मशीनें एकल ग्रिड कंप्यूटिंग नेटवर्क का उपयोग कर सकती हैं ।
  • कार्य विभिन्न भौतिक स्थानों पर समानांतर रूप से किए जा सकते हैं और उपयोगकर्ताओं को उनके लिए भुगतान नहीं करना पड़ता है ।

ग्रिड कंप्यूटिंग की विशेषताएं क्या हैं (What are the features of grid computing) ?

ग्रिड कंप्यूटिंग की आवश्यक विशेषताएं निम्नलिखित हैं :-

  • एक ग्रिड कंप्यूटिंग कुछ संसाधनों से लेकर लोखों तक के संसाधनों से निपटने में सक्षत है ।
  • ग्रिड कंप्यूटिंग के संसाधन दूरस्थ स्थानों पर स्थित हो सकते हैं ।
  • ग्रिड कंप्यूटिंग में संसाधन कई अलग अलग संगठनों से संबंधित हैं जो अन्य संगठनों यानी यूजर को उन तक पहुंचने की सुविधा देते हैं ।
  • ग्रिड कंप्यूटिंग सॉफटवेयर और हार्डवेयर दोनों संसाधनों को होस्ट करता है जो डेटा, फाइलों, सॉफटवेयर कॉम्पोनेन्ट या प्रोग्राम से लेकर सेंसर, वैज्ञानिक उपकरणों, व्यक्तिगत डिजिटल आयोजकों, कंप्यूटर, सुपर कंप्यूटर और नेटवर्क तक बहुत भिन्न हो सकते है ।

ग्रिड कंप्यूटिंग में कौन कौन से कॉम्पोनेन्ट होते हैं (What are the components in grid computing) ?

ग्रिड कंप्यूटिंग प्राथमिक ग्रिड कॉम्पोनेन्ट को एक सेट होता है । जैसा कि ग्रिड डिजाइन और उनके अपेक्षित उपयोग भिन्न होते हैं, विशिष्ट घटक हमेषा ग्रिड नेटवर्क का हिस्सा हो भी सकता हैं और नहीं भी ।

इन कॉम्पोनेन्टो को विषिश्ट परिदृश्यों में एक संकर कॉम्पोनेन्ट (hybrid component) बनाने के लिए जोड़ा जा सकता है । यद्यपि उपयोग के मामलों के आधार पर तत्वों का संयोजन भिन्न हो सकता है, ग्रिड सक्षम एप्लिकेशन को विकसित करते समय उनकी भूमिकाओं को समझने से आपको मदद मिल सकता है ।

आइए ग्रिड कंप्यूटिंग के प्रमुख कॉम्पोनेन्ट को समझते हैं :-

ग्रिड कंप्यूटिंग कैसे काम करती हैं (How does grid computing work) ?

एक ग्रिड कंप्यूटिंग नेटवर्क में मुख्य रूप से निचे दिए गए तीन प्रकार की मशीनें होती हैं :-

  • Control Node / Server
  • Provider / grid node
  • User

ग्रिड नेटवर्क में शामिल प्रप्येक कंप्यूटर पर विशेष सॉफटवेयर चलाकर ग्रिड कंप्यूटिंग संचालित होती है । सॉफटवेयर ग्रिड के सभी कार्यों का समन्वय और प्रबंधन करता है ।

सॉफटवेयर मुख्य कार्य को उप कार्यों में विभाजित करता है और प्रत्येक कंप्यूटर को उप कार्य प्रदान करता है । यह सभी कंप्यूटरों को उनके संबंधित उप कार्यों पर एक साथ काम करने की सुविधा प्रदान करता है ।

उपकार्यों के पूरा होने पर, बड़े मुख्य कार्य को पूरा करने के लिए सभी कंप्यूटरों के आउटपूट एकत्रित किए जाते हैं ।

सॉफटवेयर कंप्यूटर को किए जा रहे उप कार्यों के हिस्से के बारे में संचार करने और जानकारी साझा करने की सुविधा प्रदान करता है । जिसके फलस्वरूप, कंप्यूटर असाइन किए गए मुख्य कार्य के लिए संयुक्त आउटपुट को समेकित और वितरित कर सकते हैं ।

ग्रिड कंप्यूटिंग और क्लाउड कंप्यूटिंग में क्या अंतर है (Difference between grid computing and cloud computing) ?

Grid Computing  Cloud Computing 
यह किसी सामान्य कार्य पर काम करने या किसी जटिल समस्या को हल करने के लिए कंप्यूटर के नेटवर्क का उपयोग करता है। यह नेटवर्क पर शेयर कंप्यूटिंग संसाधनों के पूल तक ऑन-डिमांड पहुंच प्रदान करता है।
इस कंप्यूटिंग में संसाधनों को कई संगठनों या संस्थाओं में शेयर किया जाता है। इस कंप्यूटिंग में संसाधनों को एक विशिष्ट क्लाउड सेवा प्रदाता के बुनियादी ढांचे के भीतर उपयोगकर्ताओं के बीच शेयर किया जाता है।
इसे आमतौर पर ग्रिड में अधिक मशीनें जोड़कर क्षैतिज रूप से स्केल करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। यह मांग के आधार पर संसाधन आवंटन को समायोजित करके क्षैतिज और ऊर्ध्वाधर दोनों स्केलेबिलिटी प्रदान करता है।

Also ReadHow to Make Money with Drop Shipping

निर्ष्कष – Conclusion

मुझे आशा है इस पोस्ट से आपने ग्रिड कम्यूटिंग (Grid Computing) क्या है इसके बारे में पूरी जानकारी प्राप्त कर लिया है ।

अगर फिर भी ग्रिड कम्यूटिंग को लेकर आपके मन में कोई अन्य सवाल हैं तो आप हमें कामेन्ट करके पुछ सकते है, हम आपके प्रश्र का उत्तर यथाशीघ्र देने का प्रयास करूंगा ।

FAQ’s

Q1 :  ग्रिड कंप्यूटिंग की शुरुआत किसने किया हैं ?

Ans: ग्रिड कंप्यूटिंग को 1990 के दशक की शुरुआत में कार्ल केसलमैन, इयान फोस्टर और स्टीव ट्युके द्वारा स्थापित किया गया था।

अन्य पोस्ट पढ़े :

 

अगर आपको यह पोस्ट अच्छा लगा तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करे ताकी उन्हें भी इस बारे में जानकारी प्राप्त हो सके ।

Tazahindi Staff
Tazahindi Staffhttps://tazahindi.com
इस पोस्ट के लेखक सत्यजीत है, वह इस वेबसाइट का Founder भी हैं । उन्होंने Information Technology में स्नातक और Computer Application में मास्टर डिग्री प्राप्त की हैं ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here