Home CS Subjects Computer Architecture ऑपरेटिंग सिस्टम में मेमोरी मैनेजमेंट क्या है | What is Memory Management...

ऑपरेटिंग सिस्टम में मेमोरी मैनेजमेंट क्या है | What is Memory Management in Operating System in Hindi

6438
What is Memory Management in OS in Hindi

हेल्लो पाठकों !

क्या आप जानना चाहते है, ऑपरेटिंग सिस्टम में मेमोरी मैनेजमेंट क्या है (What is Memory Management in Operating  System in Hindi), मेमोरी मैनेजमेंट की आवश्यकता क्या है और मेमोरी मैनेजमेंट में कौन सी तरीके शामिल होते है ।

तो चलिए मेमोरी मैनेजमेंट के बारे में विस्तार से जानते है ।

कंप्यूटर में मेन मेमोरी क्या है (What is Main Memory in Computer) ?

मेमोरी कंप्यूटर का महत्वपूर्ण हिस्सा है जिसका उपयोग डेटा को स्टोर करने के लिए किया जाता है । कंप्यूटर मेमोरी को मूल रूप से डेटा के संग्रह के रूप में जाना जाता है जिसे बाइनरी प्रारूप में दर्शाया जाता है । मेन मेमोरी एक फेजिकल मेमोरी को संदर्भित करता है जो कंप्यूटर की आंतरिक मेमोरी है ।

कंप्यूटर केवल उस डेटा को बदलने में सक्षम है जो मुख्य मेमोरी में है । इसलिए, हमारे द्वारा निष्पादित प्रत्येक प्रोग्राम और हमारे द्वारा एक्सेस की जाने वाली प्रत्येक फाइल को स्टोरेज डिवाइस से मुख्य मेमोरी में कॉपी किया जाता है ।

मेन या मुख्य मेमोरी सीपीयू और प्ध्व् उपकरणों द्वारा शेयर की गई तेजी से उपलब्ध जानकारी का भंडार है ।

मुख्य मेमोरी प्रोसेसर से जुड़ी होती है, इसलिए निर्देशों और सूचनाओं को प्रोसेसर के अंदर और बाहर ले जाना बेहद तेज होता है ।

ऑपरेटिंग सिस्टम में मेमोरी मैनेजमेंट क्या है (What is Memory Management in Operating System in Hindi) ?

कंप्यूटर में, ऑपरेटिंग सिस्टम मेमोरी के एक हिस्से में रहता है और बाकी का उपयोग कई प्रक्रियाओं द्वारा किया जाता है ।

मेमोरी को विभिन्न प्रक्रियाओं में विभाजित करने का कार्य को मेमोरी मैनेजमेंट कहलाता है ।

मेमोरी मैनेजमेंट कंप्यूटर मेमोरी को नियंत्रित करने और समन्वय करने की प्रक्रिया है, जो सिस्टम के समग्र प्रदर्शन को अनुकूलित करता है ।

मेमोरी मैनेजमेंट प्रत्येक मेमोरी लोकेशन का ट्रैक रखता है, भले ही इसे किसी प्रक्रिया के लिए आवंटित किया गया हो या यह मुफत है । यह जांचता है कि प्रक्रियाओं को कितनी मेमोरी आवंटित की जानी है ।

यह तय करता है कि किस प्रक्रिया को किस समय मेमोरी मिलेगी । यह ट्रैक करता है कि जब भी कुछ मेमोरी मुक्त हो जाती है या आवंटित नहीं होती है और तदनुसार यह स्थिति को अपडेट करती है ।

मेमोरी मैनेजमेंट ऑपरेटिंग सिस्टम का सबसे महत्वपूर्ण कार्य है जो प्राइमारी मेमोरी को मैनेज करता है । यह प्रक्रियाओं को Main मेमोरी और Execution डिस्क के बीच आगे और पीछे जाने में मदद करता है ।

ऑपरेटिंग सिस्टम में मेमोरी मैनेजमेंट की आवश्यकता क्या है (Need of Memory Management in OS) ?

मेमोरी मैनेजमेंट तकनीक की आवश्यकता निम्नलिखित कारणों से होती है :-

  • यह तकनीक प्रोग्राम को मेमोरी में इस तरह रखने में मदद करती है ताकि मेमोरी का पूरा उपयोग हो सके ।
  • यह नियमित रूप से विभिन्न एप्लिकेशन के लिए स्थान आवंटित करने में मदद करता है ।
  • यह तकनीक विभिन्न प्रक्रियाओं को एक दूसरे से बचाने में मदद करती है ताकि वे एक दूसरे के संचालन में हस्तेक्षेप न करें ।
  • यह तकनीक आपको यह जांचने की सुविधा प्रदान करती है कि प्रक्रियाओं को कितनी मेमोरी आवंटित किरने की आवश्यकता है और यह भी तय करता है कि किस प्रोसेसर को किस समय मेमोरी मिलनी चाहिए ।
  • यह प्रत्येक मेमोरी लोकेशन का ट्रैक रखता है चाहे वह फ्री हो या आवंटित हो ।
  • यह तकनीक इन्वेंटी का टैक रखती है जब भी मेमोरी मुक्त या आवंटित नहीं हो जाती है और यह तदनुसार स्थिति को अपडेट करता है ।

मेमोरी मैनेजमेंट में कौन सी तरीके षमिल है (Method involved in Memory Management) ?

  • Paging
  • Swapping
  • Segmentation
  • Fragmentation
  • Partition allocation

Paging

यह मेथड कंप्यूटर की मेन मेमोरी को निश्चित आकार की इकाइयों में विभाजित करती है जिन्हें पेज फ्रेम के रूप में जाना जाता है । यह हार्डवेयर मेमोरी मैनेजमेंट यूनिट पेज को फ्रेम में मैप करती है जिसे पेज के आधार पर आवंटित किया जाता है ।

Swapping

स्वैपिंग एक ऐसी मेथड है जिसमें प्रक्रिया को अस्थायी रूप से मेन मेमोरी से बैकिंग स्टोर में स्वैप किया जाता है । इसे बाद में निश्पादन जारी रखने के लिए मेमोरी में वापस लाया जाता है ।

Segmentation

Segmented मेमोरी एकमात्र मेमोरी मैनेजमेंट मेथड है जो उपयोगकर्ता के प्रोग्राम को रैखिक और सन्निहित पता स्थान प्रदान नहीं करती है ।
Segments को segment तालिका के रूप में हार्डवेयर समर्थन की आवश्यकता होती है । इसमें मेमोरी, आकार और अन्य डेटा जैसे एक्सेस प्रोटेक्शन बिटस और स्टेटस में सेक्शन का फेजिकल एड्रेस होता है ।

Fragmentation

गतिशील मेमोरी आवंटन सिस्टम में विखंडन तब होता है जब अधिकांश मुक्त ब्लॉक किसी भी अनुरोध को पूरा करने के लिए बहुत छोटे होते हैं । इसे आमतौर पर उपलब्ध मेमोरी का उपयोग करने में असमर्थता कहा जाता है ।

Partition allocation

मेमोरी को अलग अलग ब्लॉक या पार्टिशन में बांटा गया है । प्रत्येक प्रक्रिया को आवश्यकता के अनुसार आवंटित किया जाता है । आंतरिक विखंडन से बचने के लिए विभाजन आवंटन (partition allocation) एक आदर्श तरीका है ।

ये भी पढ़ें: How to Make Tandoori Chicken  

निर्ष्कष – Conclusion

मुझे आशा है इस पोस्ट से आपने मेमोरी मैनेजमेंट क्या है इसके बारे में पूरी जानकारी प्राप्त कर लिया है ।

अगर फिर भी मेमोरी मैनेजमेंट को लेकर आपके मन में अन्य कोई सवाल हैं तो आप हमें टिप्पणी अनुभाग के जरीए पुछ सकते है ।

FAQ’s

Q1 :  

Ans:

अन्य पोस्ट पढ़ें :

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here