Home CS Subjects Computer Networks नेटवर्क प्रोटोकॉल क्या है | What is a Network Protocol in Hindi

नेटवर्क प्रोटोकॉल क्या है | What is a Network Protocol in Hindi

4416
What is Network Protocols in Hindi

हेल्लो पाठकों !

क्या आप जानना चाहते है, नेटवर्क प्रोटोकॉल क्या है (What is a Network Protocol in Hindi), नेटवर्क प्रोटोकॉल कि प्रकार, इसके उपयोग और नेटवर्क प्रोटोकॉल कैसे काम करता है ।

तो चलिए नेटवर्क प्रोटोकॉल के बारे में विस्तार से जानते है ।

नेटवर्क प्रोटोकॉल क्या है (What is a Network Protocol in Hindi) ?

नेटवर्क प्रोटोकॉल अच्छी तरह से परिभाषित नियमों का एक समूह है जिसके माध्यम से उपयोगकर्ता इंटरनेट या इंट्रानेट पर संचार करता है । संचार चैनल के दोनों छोर उचित सूचना विनिमय के लिए इन नियमों का पालन करते हैं ।

एक नेटवर्क के भीतर कंप्यूटर बहुत अलग अलग सॉफटवेयर और हार्डवेयर का उपयोग करता हैं, जिसमें प्रोटोकॉल का उपयोग उन्हें एक दूसरे के साथ संवाद करने में सक्षम बनाता है ।

नेटवर्क प्रोटोकॉल के बजे से आप दुनिया भर के लोगों के साथ आसानी से संवाद कर सकते हैं ।

नेटवर्क प्रोटोकॉल कितने प्रकार होते है (Types of Network Protocols) ?

इंटरनेट पर विभिन्न प्रकार की प्रक्रियाओं के लिए अलग अलग प्रोटोकॉल होते हैं । प्रोटोकॉल को मोटे तौर पर तीन प्रमुख श्रेणियों में बाटा जा सकता है :-

  • Communication Protocols
  • Management Protocols
  • Security Protocols

Communication Protocols

इसे हिन्दी में संचार प्रोटोकॉल कहॉ जाता है । संचार प्रोटोकॉल एक नेटवर्क के कामकाज के लिए वास्तव में महत्वपूर्ण हैं। इसके बिना कंप्यूटर नेटवर्क का होना संभव नहीं है । ये प्रोटोकॉल औपचारिक रूप से उन नियमों और प्रारूपों को निर्धारित करते हैं जिनके माध्यम से डेटा स्थानांतरित किया जाता है । ये प्रोटोकॉल syntax, semantics, error detection, synchronization और authentication को संभालते हैं । संचार प्रोटोकॉल के उदाहरण :-

  • HTTP
  • TCP
  • UDP
  • BGP
  • ARP
  • IP
  • DHCP

Management Protocols

मैनेजमेंट प्रोटोकॉल कंप्यूटर नेटवर्क की निगरानी, रखरखाव और मैनेजिंग में उपयोग की जाने वाली प्रक्रियाओं और नीतियों का वर्णन करने में सहायता करते हैं। ये प्रोटोकॉल स्थिन संचार सुनिश्चित करने के लिए पूरे नेटवर्क में आवश्यकताओं को संप्रेषित करने में मदद करते हैं । इनका उपयोग होस्ट और क्लाइंट के बीच कनेक्श्न के समस्या को निवारण के लिए भी किया जाता है । इस प्रोटोकॉल के उदाहरण :-

  • ICMP
  • SNMP
  • FTP
  • POP3
  • Gopher
  • Telnet

Security Protocols

ये प्रोटोकॉल एक नेटवर्क पर पारित होने मे डेटा को सुरक्षित करते हैं । ये प्रोटोकॉल यह निर्धारित करते हैं कि डेटा निकालने या समीक्षा करने के किसी भी अनधिकृत प्रयास से नेटवर्क डेटा को कैसे सुरक्षित करता है । सुरक्षा प्रोटोकॉल सुनिश्चित करते हैं कि कोई भी अनधिकृत डिवाइस, उपयोगकर्ता, सेवाए नेटवर्क डेटा तक नहीं पहुंच सके । इस प्रोटोकॉल के उदाहरण :-

  • SSL
  • HTTPS
  • TSL

नेटवर्क प्रोटोकॉल का उपयोग क्या है (Why network protocols are used) ?

प्रोटोकॉल के बिना, उपकरणों में नेटवर्क करेक्शन पर एक दूसरे को भेजे जाने वाले इलेक्टॉनिक संकेतों को समझने की क्षमता का अभाव होगा ।

नेटवर्क प्रोटोकॉल निम्नलिखित बुनियादी कार्य करते हैं :-

  • यह जरूरत पड़ने पर डेटा को फेजिकल रूप से सुरक्षा के साथ सोर्स से गंतव्य तक प्रसारित करता है ।
  • यह सही प्राप्तकर्ताओं को डेटा संबोधित करता है ।
  • नेटवर्क प्रोटोकॉल की मदद से हम संदेश प्राप्त कर सकते हैं, और उचित रूप से प्रतिक्रियाए भेज सकते हैं ।
  • जिस तरह डाक सेवा कई सोर्स और गंतव्यों से पत्रों का मैनेज करती है, उसी तरह नेटवर्क प्रोटोकॉल लगातार कई रास्तों पर डेटा प्रवाहित करते रहते हैं ।
  • नेटवर्क प्रोटोकॉल उन्नत क्षमताए प्रदान करते हैं जैसे संदेशों का एक गंतव्य तक निरंतर प्रवाह प्रदान करना और एक साथ कई गंतव्यों तक वितरण के लिए स्वचालित रूप से संदेश की प्रतियां बनाना ।

अन्य पोस्ट पढ़े : राजस्थान किसान कर्ज माफी योजना क्या है, उद्देश्य, विशेषताएं, फायदे, पात्रता, आवेदन कैसे करें

नेटवर्क प्रोटोकॉल कैसे काम करता है (How network protocols work) ?

नेटवर्क प्रोटाकॉल नियमों को परिभाषित करता है कि इसके डेटा पैकेट को कैसे व्यवस्थित किया जाना चाहिए ।

प्रोटोकॉल आमतौर ना प्रत्येक पैकेट को तीन भागों में विभाजित करते हैं header, payload और footer ।

पैकेट हेडर और फुटर में नेटवर्क का समर्थन करने के लिए आवश्यक प्रासंगिक जानकारी होती है, जिसमें भेजने और प्राप्त करने वाले उपकरणों क पते शामिल होते हैं । पेलोड में प्रेषित किए जाने वाले डेटा होते हैं ।

हेडर या फुटर में नेटवर्क कनेक्शन की विश्वसनीयता और प्रदर्शन में सुधार के लिए विशेष डेटा शामिल होता है, जैसे counter जो उस क्रम का ट्रैक रखते हैं जिसमें संदेष भेजे गए थे और checksums जो नेटवर्क एप्लिकेशन को डेटा corruption या tempering का पता लगाने में मदद करते हैं ।

निर्ष्कष – Conclusion

मुझे आशा है इस पोस्ट से आपने नेटवर्क प्रोटोकॉल क्या है इसके बारे में पूरी जानकारी प्राप्त कर लिया है ।
अगर फिर भी नेटवर्क प्रोटोकॉल को लेकर आपके मन में अन्य कोई सवाल हैं तो आप हमें टिप्पणी अनुभाग के जरीए पुछ सकते है ।

अन्य पोस्ट पढ़े :

FAQs

  1. प्रोटोकॉल का अर्थ क्या होता है?

    कंप्यूटर नेटवर्किंग के संदर्भ में, एक प्रोटोकॉल विशेष रूप से नियमों के एक समूह को संदर्भित करता है जो विभिन्न उपकरणों या प्रणालियों के बीच संचार को नियंत्रित करता है।

  2. नेटवर्क प्रोटोकॉल  के प्रकार?

    नेटवर्क प्रोटोकॉल के कई अलग-अलग प्रकार होते हैं, इन मे से कुछ सबसे प्रमुख होते हैं: टीसीपी, आईपी, यूडीपी, डीएनएस, एचटीटीपी, एफटीपी ।

  3. प्रोटोकॉल क्यों आवश्यक है?

    कंप्यूटर नेटवर्किंग में प्रोटोकॉल आवश्यक हैं क्योंकि वे नियमों और प्रक्रियाओं का एक मानकीकृत सेट प्रदान करते हैं जो विभिन्न उपकरणों और प्रणालियों को एक दूसरे के साथ कम्यूनिकेट करने की सुबिधा प्रदान करते हैं।

  4. प्रोटोकॉल के प्रमुख तत्व क्या हैं?

    एक प्रोटोकॉल के मुख्य तत्व स्पेसिफिक प्रोटोकॉल के आधार पर भिन्न हो सकते हैं, लेकिन एक प्रोटोकॉल में आमतौर पर तत्व शामिल होते हैं 1) सिंटैक्स 2) शब्दार्थ 3) समय 4) त्रुटि प्रबंधन 5) सुरक्षा 6) नियंत्रण

  5. नेटवर्क प्रोटोकॉल की बुनियादी आवश्यकताएं क्या हैं?

    नेटवर्क प्रोटोकॉल की बुनियादी आवश्यकताएं नेटवर्क पर उपकरणों के बीच विश्वसनीय और कुशल संचार सुनिश्चित करने के साथ-साथ सुरक्षा और त्रुटि से निपटने के लिए तंत्र भी प्रदान करना।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here