HomeCS SubjectsComputer Networksनेटवर्क ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है | What is Network Operating System in...

नेटवर्क ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है | What is Network Operating System in Hindi

हेल्लो पाठकों !

क्या आप जानना चाहते है, नेटवर्क ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है (What is Network Operating System in Hindi), नेटवर्क ऑपरेटिंग सिस्टम के कार्य क्या है, इसकी विशेषताएं, फायदे, नुकसान क्या है और ऑपरेटिंग सिस्टम और नेटवर्क ऑपरेटिंग सिस्टम में क्या अंतर है ।

एक ऑपरेटिंग सिस्टम एक सिस्टम सॉफ्टवेयर है जो हार्डवेयर संसाधनों को मैनज करता है और एप्लिकेशन सॉफ्टवेयर को सेवाएं प्रदान करता है । इसकी विशेषताओं और कार्यात्मकताओं के आधार पर कई प्रकार के ऑपरेटिंग सिस्टम होते हैं ।

इस ब्लॉग से, मैं आपको केवल नेटवर्क ऑपरेटिंग सिस्टम के बारे में विस्तार से समझांगा ।

नेटवर्क ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है (What is Network Operating System in Hindi) ?

नेटवर्क ऑपरेटिंग सिस्टम एक सॉफटवेयर है जो नेटवर्क पर विभिन्न उपकरणों और कंप्यूटरों को जोड़ने और उन्हें नेटवर्क पर संसाधनों को शेयर करने की सुविधा प्रदान करता है ।

अलग अलग मशीनें जो नेटवर्क का हिस्सा हैं, उनका अपना ऑपरेटिंग सिस्टम है, और नेटवर्क ऑपरेटिंग सिस्टम अलग अलग मशीनों के टॉप पर रहता है ।

नेटवर्क ऑपरेटिंग सिस्टम मुख्य रूप से एक शक्तिशाली कंप्यूटर पर चलता है । यह सुरक्षा की सुविधा प्रदान करता है और डेटा, उपयोगकर्ता, समूह, एप्लिकेशन और अन्य नेटवर्क कार्यात्मकताओं को मैनेज करने का क्षमता भी प्रदान करता है ।

नेटवर्क ऑपरेटिंग सिस्टम कितने प्रकार है (Types of Network Operating System) ?

नेटवर्क ओएस मुख्य रूप से दो प्रकार के होते हैं, वे हैं :-

  • Peer-to-peer Network Operating System
  • Client / Server Network Operating System

Peer-to-peer Network Operating System

यह एक नेटवर्क ऑपरेटिंग सिस्टम है जिसमें सभी नोड कार्यात्मक और परिचालन रूप से एक दूसरे के बराबर होते हैं । यह संसाधनों और फाइलों को छोटे आकार के नेटवर्क और कम संसाधनों वाले शेयर करने की सुविधा प्रदान करता है । आम तौर पर, LAN में इस नेटर्वक ऑपरेटिंग सिस्टम का उपयोग किया जाता है ।

Client / Server Network Operating System

यह एक नेटवर्क ऑपरेटिंग सिस्टम है जो नेटवर्क में एक सर्वर और कई क्लाइंट कंप्यूटरों के साथ काम करता है । क्लाइंट ऑपरेटिंग सिस्टम क्लाइंट मषीन पर चलता है, जबकि नेटवर्क ऑपरेटिंग सिस्टम सर्वर मशीन पर स्थापित होता है । सर्वर मशीन सभी क्लाइंट मशीनों के लिए एक केंदीकृत हब है ।

नेटवर्क ऑपरेटिंग सिस्टम के कार्य क्या है (Functions of Network Operating System) ?

नेटवर्क ऑपरेटिंग सिस्टम के मुख्य कार्य निम्नलिखित है :-

  • यह नेटवर्क पर युजर के अकाउंट बनाने और मैनेज करने की सुविधा प्रदान करता है ।
  • यह नेटवर्क पर संसाधनों तक पहुंच को नियिं़त्रत करता है ।
  • यह नेटवर्क पर उपकरणों के बीच संचार सेवाएं प्रदान करता है ।
  • यह नेटवर्क पर संसाधनों का विन्यास और प्रबंधन करता है ।

नेटवर्क ऑपरेटिंग सिस्टम की विशेषताएं क्या है (Features of Network Operating System) ?

नेटवर्क ऑपरेटिंग सिस्टम में कई विशेषताएं है, जो निम्नलिखित हैं :-

  • एक नेटवर्क ऑपरेटिंग सिस्टम एक साथ में कई हजारों कार्यों को संभाल सकता है ।
  • नेटवर्क ऑपरेटिंग सिस्टम सालों तक बिना क्रैश हुए चल सकता है ।

नेटवर्क ऑपरेटिंग सिस्टम के क्या फायदे है (Advantages of Network Operating System) ?

नेटवर्क ऑपरेटिंग सिस्टम के कई फायदे हैं, उनमें से कुछ निम्न प्रकार हैं :-

  • इस नेटवर्क सिस्टम की मदद से, विभिन्न स्थानों और अलग अलग सिस्टम से सर्वर तक रिमोट एक्सेस प्राप्त करना संभव है ।
  • इस ऑपरेटिंग सिस्टम में नई तकनीकों, उन्नयन और हार्डवेयर को आसानी से एकीकृत किया जा सकता है ।
  • यह अच्छी सुरक्ष प्रदान करता है ।
  • यह केंदीय सर्वर के कारण अत्यधिक स्थिर है ।

नेटवर्क ऑपरेटिंग सिस्टम के क्या नुकसान क्या है (Disadvantages of Network Operating System) ?

नेटवर्क ऑपरेटिंग सिस्टम के कई नुकसान भी हैं, उनमें से कुछ निम्न प्रकार हैं :-

  • इसे नियमित रखरखाव और अद्यतन की आवश्यकता है ।
  • यह बहुत महंगा है ।
  • इसमे अघिकांश प्रक्रियाओं के लिए यूजर को केंदीय स्थान पर निर्भर रहना पड़ता है ।

डिस्ट्रिब्यूटेड ऑपरेटिंग सिस्टम और नेटवर्क ऑपरेटिंग सिस्टम में क्या अंतर है (Difference between distributed OS and Network OS) ?

Distributed Operating SystemNetwork Operating System
डिस्ट्रिब्यूटेड ऑपरेटिंग सिस्टम हार्डवेयर संसाधनों का मैनेज करता है ।नेटवर्क ऑपरेटिंग सिस्टम दूरस्थ ग्राहकों को स्थानीय सेवाएं प्रदान करता है ।
इस नेटवर्क में कार्यान्वयन कठिन है ।इस सिस्टम को बनाना और बनाए रखना आसान है ।
इसमें बहुत अधिक दोष टॉलरेंस है ।डिस्ट्रिब्यूटेड ऑपरेटिंग सिस्टम की तुलना में इसमें कम दोष टॉलरेंस है ।

निर्ष्कष – Conclusion

मुझे आशा है इस पोस्ट से आपने नेटवर्क ऑपरेटिंग सिस्टम के बारे में अच्छे से हिन्दी में जानकारी प्राप्त कर लिया है ।

अगर फिर भी नेटवर्क ऑपरेटिंग सिस्टम को लेकर आपके मन में अन्य कोई सवाल हैं तो आप हमें टिप्पणी अनुभाग के जरीए पुछ सकते है ।

FAQ’s

Q1 :

Ans:

अन्य पोस्ट पढ़े :

अगर आपको यह पोस्ट अच्छा लगा तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करे ताकी उन्हें भी इस बारे में जानकारी प्राप्त हो सके ।

Satyajit Nath
Satyajit Nathhttps://tazahindi.com
इस पोस्ट के लेखक सत्यजीत है, वह इस वेबसाइट का Founder भी हैं । उन्होंने Information Technology में स्नातक और Computer Application में मास्टर डिग्री प्राप्त की हैं ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here