HomeComputer ScienceRAM क्या है | What is RAM in Hindi

RAM क्या है | What is RAM in Hindi

हेल्लो पाठकों !

क्या आप जानना चाहते है, रेम क्या है (What is RAM in Hindi), रैम का उपयोग क्या है, कंप्यूटर में रैम कैसे काम करता है, रैम में क्या समस्या आते है, रैम की समस्याओं को कैसे निवारण करते है ?

यदि आप इन सब सवालों के जवाब जानना चाहते है, तो आपका इस पोस्ट में स्वागत है ।

तो चलिए शुरू करते है ।

रैम क्या है (What is RAM in Hindi) ?

RAM का पुरा नाम Random Access Memory है । यह मूल रूप से आपके कंप्यूटर की शॉर्ट टर्म मेमोरी है । कंप्यूटर की मुख्य मेमोरी को RAM  के नाम से जाना जाता है ।

RAM कंप्यूटर के अन्दर का एक फेजिकल हार्डवेयर है जो कंप्यूटर सिस्टम में मदरबोर्ड पर लगा होता है । यह माइक्रोप्रोसेसर के समान, मेमोरी चिप, लोखों टांजिस्टर और कैपेसिटर से बना एक IC है ।

रैम एक सूपर फास्ट, हाई स्पीड स्टोरेज है जिसका उपयोग कंप्यूटर औ उसके एप्लिकेशन में अस्थायी डेटा को स्टोर और एक्सेस करने के लिए करते हैं ।

RAM अस्थायी रूप से डेटा को स्टोर करता है और यह कंप्यूटर के वर्किंग मेमोरी के रूप में काम करता है ।

इसकी जानकारी को बनाए रखने के लिए विदयुत शक्ति की आवश्यकता होती है ।

कंप्यूटर के बन्द होने के बाद RAM  की कॉन्टेंट हमेशा मिट जाती है । यही कारण है कि जब कोई अपने कंप्यूटर को वापस चालू करता हैं तो उसका कोई भी कॉन्टेंट या फाइले सुली नहीं होती है ।

रैम कितने प्रकार के है (Types of RAM) ?

समय बीतने के साथ, रैम की गति और क्षमता भी बढ़ गई है और हमारे कंप्यूटिंग का तरीका भी निश्चित रूप से बदल गया है, लेकिन आम यूजर को कुछ अलग नोटिस नहीं हुया है । आज के योग में RAM का सबसे आधुनिक प्रकार DDR4 है, जो पहले के सभी RAM को पिछे छोड़ दिया है । जो रैंडम एक्सेस स्टोरेज के लिए उच्च क्षमता, तेज और अधिक सक्षम है ।

समय के साथ कई प्रकार के रैम को बनाया गया है, जिनका विवरण निम्नलिखित है :-

  • SRAM
  • DRAM
  • SDRAM
  • SDR  SDRAM
  • DDR SDRAM

SRAM

इसका पुरा नाम Static RAM है । इस प्रकार की रैम में, डेटा को छह टांजिस्टर मेमोरी सेल की स्थिति का उपयोग करके संग्रहीत किया जाता है ।

इसको निरंतर बिजली की आपूर्ति की आवश्यकता होती है, जिसका अर्थ है कि यह मेमोरी अधिक बिजली की खपत करती है ।

DRAM

इसका पुरा नाम Dynamic RAM है । यह एक प्रकार की रैम है जो आपको प्रत्येक बिट डेटा को एक अलग कैपेसिटर में स्टोर करने की अनुमति देती है ।

इसमे कम बिजली की खपत प्रदान करता है क्योंकि जानकारी capacitor में संग्रहीत होती है ।

SDRAM

इसका पुरा नाम Synchronous Dynamic RAM है । यह चिप को दो सेल ब्लॉक में विभाजित करता है और उनके बीच डेटा इंटरलीव करता है । SDRAM की गति nanoseconds के बजाय MHz में रेट की गई है । SDRAM मेमोरी का व्यापक रूप से कंप्यूटर और अन्य कंप्यूटिंग संबंधित प्रौद्योगिकी में उपयोग किया जाता है ।

SDR SDRAM

इसका पुरा नाम Single Data Rate Synchronous Dynamic है । यह SDRAM को विस्तारित शब्द है । इसमें सिंगल डेटा दर यह इंगित करता है कि मेमोरी प्रति घड़ी चक्र में एक पढ़ने और एक लिखने के निर्देश को कैसे संसाधित करती है ।

DDR SDRAM

इसका पुरा नाम Double Data Rate Synchronous Dynamic RAM है । DDR SDRAM प्रति घड़ी चक्र में दो पढ़ने और दो लिखने के निर्देशों को संसाधित करने में सक्षम है, इसलिए इसे डबल कहा जाता है ।

समय के साथ, इसमे कई बदलाव/ version आए है, DDR1, DDR2, DDR3 और DDR4 आज के योग में सबसे आधुनिक प्रकार DDR4 है, जो पहले के सभी त्।ड को पिछे छोड़ दिया है ।

अन्य पोस्ट पढ़े > CMOS क्या है ?

रैम का उपयोग क्या है (What are the uses of RAM) ?

कंप्यूटर को अपने कई दैनिक कार्य करने देता है, जैसे एप्लिकेषन लोड करना, इंटरनेट ब्राउज करना, स्प्रेडशीट संपादित करना, या नवीनतम गेम को अनुभव करना ।

रैम का उद्देश्य स्टोरेज डिवाइस को जलदी पढ़ने और लिखने की पहुंच प्रदान करना है । कंप्यूटर डेटा लोड करने के लिए का उपयोग करता है क्योंकि यह डेटा को सीधे हार्ड डाइव से चलाने की तुलना में बहुत तेजी से दिखता है ।

कंप्यूटर में RAM कैसे स्थापित करते है (How to install  RAM in Computer) ?

RAM को स्थापित करना एक बहुत ही सरल और सीधी प्रक्रिया है । रैम को स्थापित करने के लिए आपको कुछ जरूरी जानकारी जानना चाहिए, जैसे :-

  • आपके कंप्यूटर में पहले से कितनी RAM लगा है
  • आप कितनी और RAM जोड़ना चाहते हैं
  • रैम बनाने वाले कंपनी कोन है
  • आपके कंप्यूटर के लिए किस प्रकार RAM की आवश्यकता है
  • रैम को कहॉ लगाया जाता है

निचे दिए गए स्टेप्स को अनुसरण करके आपके कंप्यूटर में रैम को बड़ी आसानी से स्थापित कर सकते है :-

  • आपका कंप्यूटर को खोलने से पहले, कंप्यूटर को बंद और अनप्लग करें ।
  • आपके कंप्यूटर के आधार पर, केस को खोलने के लिए आपको एक स्क्रूडाइवर या नट-डाइवर की आवश्यकता होगी ।
  • RAM को मदरबोर्ड पर स्लॉट की एक श्रृंखला में स्थापित किया जाता है, जिसे मेमोरी बैंक के रूप में जाना जाता है
  • आप मॉडयूल को लगभग 45 डिग्री कोण पर स्लॉट में रखकर स्थापित कर सकते हैं, फिर इसे तब तक आगे बढ़ा सकते हैं जब तक कि यह मदरबोर्ड के लंबवत न हो और प्रत्येक छोर पर छोटी धातु क्लिप जगह में स्नैप हो ।
  • इसके बाद बस यह सुनिश्चित करें कि मॉडयूल स्लॉट में मजबूती से बैठा है
  • मॉडयूल एक बार स्थापित हो जाने के बाद, कंप्यूटर केस को बंद कर दें, कंप्यूटर को वापस प्लग इन करें और इसे पावर या बिजली दे ।

अन्य पोस्ट पढ़े > Central Processing Unit क्या है ?

कंप्यूटर में रैम कैसे काम करता है (How RAM works in Computer) ?

कंप्यूटर में CPU और RAM एक साथ काम करते हैं । सीपीयू कुछ डेटा पर काम करता है, जहा रैम डेटा को स्टोर करता है, जिसे सीपीयू को ठीक से और कुशलता से काम करने के लिए RAM की आवश्यकता होती है । वे एक दूसरे के बिना कार्य नहीं कर सकते ।

वे आवश्यक डेटा को संग्रहीत करने के लिए RAM की क्षमता को संयोजित करके और CPU को इसे जल्दी से एक्सेसे करने की अनुमति देकर एक साथ काम करते हैं ।

CPU डेटा को प्रोसेस करता है और इसे अन्य components को भेजता है ।

RAM और ROM के बीच क्या अंतर है (Difference between RAM and ROM) ?

मेमोरी एक कंप्यूटिंग सिस्टम का सबसे आवश्यक तत्व है क्योंकि इसक बिना कंप्यूटर सरल कार्य नहीं कर सकता है । कंप्यूटर मेमोरी को दो प्रकार की होती है, प्राइमरी और सेकेंडरी मेमोरी । प्राइमरी मेमोरी में RAM और ROM आते है, सेकेंडरी मेमोरी में हार्ड डाइव, सीडी आदि ।

तो चलिए RAM और ROM में क्या अन्तर है, यह जानते है :-

RAM

  • RAM का उपयोग CPU द्वारा उपयोग किए जा रहे प्रोग्राम और डेटा को रीयल-टाइम में स्टोर करने के लिए किया जाता है ।
  • कंप्यूटर के बन्द होने के बाद RAM में संग्रहीत डेटा हमेशा मिट जाती है ।
  • यह एक हार्डवेयर तत्व है जहॉ वर्तमान में उपयोग किया जा रहा डेटा संग्रहीत किया जाता है ।
  • यह एक अस्थिर मेमोरी है ।

ROM

  • ROM एक प्रकार की मेमोरी हे जहा डेटा को पहले से रिकॉर्ड किया जाता है ।
  • ROM में संग्रहीत डेटा को कंप्यूटर के बंद होने के बाद भी बरकरार रखा जाता है ।
  • यह एक स्थित मेमोरी है ।

निर्ष्कष –Conclusion

रैम के बिना एक कंप्यूटर को चलाना असंभव है, इसलिए कंप्यूटर में काम करने वाले सभी लोगों को रैम के बारे में बुनियादी जानकारी रखना अति आवश्यक है ।

मुझे आशा है कि इस लेख के जरिए आपने रैम क्या है (What is RAM), रैम के प्रकार, कंप्यूटर में रैम का उपयोग और रैम कैसे काम करता है इसके बारे में आपको पूरा जानकारी दे पाया हुं ।

अगर फिर भी आपका इस बिषय में इसके अलावा और कोई सवाल, सूझाव या बेहतर जानकारी है तो आप हमें कमेंट करके बता सकते है ।

आपका बहुमूल्य कमेंट हमे इस लेख को और बेहतर बनाने में मदद कर सकता है ।

अगर आपको यह पोस्ट अच्छा लगा तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करे ताकी उन्हें भी इस बारे में जानकारी प्राप्त हो सके ।

Satyajit Nath
Satyajit Nathhttps://tazahindi.com
इस पोस्ट के लेखक सत्यजीत है, वह इस वेबसाइट का Founder भी हैं । उन्होंने Information Technology में स्नातक और Computer Application में मास्टर डिग्री प्राप्त की हैं ।
RELATED ARTICLES

2 COMMENTS

    • इस वेबसाइट पर पहुंचने के लिए आपका बहुत बहुत स्वागत । यह मेरे लिए खुशी कि बात है कि इस वेबसाइट के पोस्ट पढ़ने से आपको रेम के बारे में पूरा संदेह दूर हो गया है ।

      इसके अलावा, इस वेबसाइट में कंप्यूटर सांइस के लगभग हर क्षेत्र को ब्लॉग पोस्ट के माध्यम से कवर करने का कोशिश किया गया है, आप उन्हें भी पढ़ सकते हैं ।

      इसलिए इस वेबसाइट के लिंक को अपने दोस्तों और अन्य जरूरतमंद लोगों को शेयर करें ताकि वे भी इस वेबसाइट के पोस्ट को पढ़ कर जानकारी प्राप्त कर सकें ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments

Data क्या है और यह कितने प्रकार का होता है ? - on बाइनरी नंबर सिस्टम क्या है | What is Binary Number System in Hindi